Home Chattisgarh news Raipur news सुरक्षा निधि के नाम पर बिजली विभाग डाल रही जनता के जेब...

सुरक्षा निधि के नाम पर बिजली विभाग डाल रही जनता के जेब में डांका

7693

 छत्तीसगढ़ आम आदमी पार्टी के नेता विजय कुमार झा एवं मुन्ना बिसेन ने कहा है कि पूरे प्रदेश की जनता बिजली बिल देखकर परेशान हैं। सभी अचानक बिल में वृद्धि के कारण विद्युत मंडल के कार्यालयों में चक्कर काटने के लिए मजबूर हैं। लेकिन प्रबंधन इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है। विद्युत मंडल प्रबंधन छत्तीसगढ़ में एक उद्योग है जहां प्रबंधन पैसा कमाकर भ्रष्टाचार कर राजनीति में प्रवेश करते हैं। इसका जीता जागता उदाहरण श्री राजीव रंजन करोड़ों रुपया कमा कर बिहार में जाकर चुनाव लड़े और विधायक बने।प्रबंधन का यह तर्क की पावर कंपनी प्रतिवर्ष नवंबर में सुरक्षा निधि लेता है, ऐसा प्रतीत होता है जैसा बैंक प्रतिवर्ष पेंशनरों से जीवित प्रमाण पत्र लेता है, वैसी छत्तीसगढ़ पावर कंपनी लिमिटेड नवंबर में सुरक्षा निधि ले रहा है। विद्युत मंडल को छोड़ दे तो अन्य क्षेत्रों में सुरक्षा निधि केवल प्रारंभिक तौर पर एक बार ली जाती है। उसके बाद प्रतिमाह या प्रतिवर्ष जो राशि मिलते हैं उस राशि से व्यवस्था की जाती है। उदाहरण स्वरूप भूमि के पटटा देने पर राजस्व विभाग में भू राजस्व प्रतिवर्ष लिया जाता है।प्रब्याजी केवल एक बार ही लिया जाता है। सुरक्षा निधि प्रब्याजी के समान है। छत्तीसगढ़ आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कोमल हुपेंडी, दुर्गा झा, सूरज उपाध्याय, के एस नायडू, ए एस हैदरी, नरेंद्र ठाकुर,  वीरेंद्र पवार, राज नारायण दिवेदी, पुष्पेन्द्र परिहार, पी एस पन्नू, सागर क्षीरसागर, आर एस ठाकुर, विकास दास मानिकपुरी, आसिफ भाई, धीरज ताम्रकार,आदि नेताओं ने छत्तीसगढ़ विद्युत वितरण पावर कंपनी लिमिटेड से मांग की है कि प्रति वर्ष नवंबर माह में सुरक्षा निधि के नाम पर छत्तीसगढ़ की जनता से लूट बंद किया जाए, अन्यथा विद्युत मंडल कार्यालय का आम आदमी पार्टी घेराव करेगा। साथ ही इसकी शिकायत मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से भी की जायेगी कि विद्युत मंडल कंपनी कांग्रेसी सरकार को हराने के लिए योजनाबद्ध तरीके से सरकार को बदनाम कर रही है।