मुनाफा कमाने का झांसा देकर सीए ने लोहा कारोबारी से की एक करोड़ की ठगी

972

रायपुर, कोतवाली थाने में एक करोड़ की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है। आरोपी ने खुद को सीए बताकर लोहा कारोबारी को झांसे में लेकर स्क्रेप व्यवसाय में हर महीने 10 लाख कमाने का झांसा देकर व्यवसायी से एक करोड़ रुपये ठग लिए।

आरोपी लोहा व्यवसायी को जीएसटी से जुड़ी प्रक्रिया समझाने के बीच स्क्रेप व्यवसाय में कमाई का लालच दिया। सीए के साथ आरोपी ने खुद को कंस्ट्रक्शन, शेयर मार्केट से जुड़ा होना भी बताया। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। आरोपी फरार है।

कोतवाली थाना प्रभारी उमेंद्र टंडन ने बताया कि होलीफेथ स्कूल के पीछे, कबीरनगर निवासी विकास बंग ने राकेश जैन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। विकास जीआई तार, बैंडिंग तार, बारबेट तार, स्क्रेप की खरीद-बिक्री का काम करता है। प्रार्थी की 2017 में राकेश जैन से मुलाकात हुई। आरोपी राकेश जैन ने खुद को चार्टर्ड अकाउंटेंट होना बताया। इस कारण जीएसटी की प्रक्रिया को समझने के लिए व्यवसायी बंग उनसे लगातार संपर्क में रहा।

राकेश ने खुद को रोड कंट्रक्शन, शेयर मार्केट, लोहे के स्क्रेप का भी काम होना बताया था। फरवरी 2020 में हुई भेंट में जैन ने व्यवसायी बंग को स्क्रेप के व्यवसाय में पैसा लगाने की सलाह दी। व्यवसायी बंग ने राकेश जैन की सलाह पर विश्वास करके स्क्रेप के व्यवसाय में पैसा लगाने के लिए फरवरी 2020 से भुगतान शुरू किया। इसका मूल एवं मुनाफे का पैसा कुछ दिन बाद राकेश जैन के द्वारा किया जाता रहा।

प्रार्थी ने 21 जून 2022 को 20 लाख रुपये, 18 अगस्त 2022 को 20 लाख रुपये, पांच सितंबर 2022 को 30 लाख रुपये और छह सितंबर 2022 को 30 लाख रुपये राकेश जैन के खातों में डाले। इसके कुछ दिन बाद से राकेश जैन ने मूल पैसा और मुनाफा देना बंद कर दिया। इसके बाद से वह मोबाइल बंद कर लिया। प्रार्थी ने जब राकेश जैन के फाफाडीह में ओम काम्प्लेक्स स्थित घर में जाकर देखा तो पता चला कि घर में ताला लगा हुआ था।इसका मूल एवं मुनाफे का पैसा कुछ दिन बाद राकेश जैन के द्वारा किया जाता रहा।

प्रार्थी ने 21 जून 2022 को 20 लाख रुपये, 18 अगस्त 2022 को 20 लाख रुपये, पांच सितंबर 2022 को 30 लाख रुपये और छह सितंबर 2022 को 30 लाख रुपये राकेश जैन के खातों में डाले। इसके कुछ दिन बाद से राकेश जैन ने मूल पैसा और मुनाफा देना बंद कर दिया। इसके बाद से वह मोबाइल बंद कर लिया। प्रार्थी ने जब राकेश जैन के फाफाडीह में ओम काम्प्लेक्स स्थित घर में जाकर देखा तो पता चला कि घर में ताला लगा हुआ था। आरोपी फरार हो गया था।