धर्म चुनने का अधिकार सभी को जाती कोई नहीं बदल सकता मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दिया बयान…

91

रायपुर ….छत्तीसगढ़ में एक दिन पहले मोहन भागवत ने धर्मांतरण पर चिंता जताई थी। एक दिन बाद अब प्रदेश के मुख्यमंत्री ने इस पर अपने विचार रखे। धर्म बदलने में उन्होंने कोई आपत्ति नहीं जताई, बशर्ते ये जबरिया न हो। भूपेश बघेल मंगलवार को भेंट मुलाकात के कार्यक्रम में शामिल होने डोंगरगढ़ जा रहे थे। इससे पहले मीडिया में उन्होंने इस मसले पर बयान दिया।धर्म और जाति के बदलने पर छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा- जाति तो बाय बर्थ मिलती है। उसे बदल नहीं सकते। जिस जाति में जन्म लिए उसी परिवेश में रहते हैं,उसे बदल नहीं सकते। लेकिन धर्म चुनने का अधिकार सबको है। पहले राजतंत्र था तो राजा का दंड, सिक्का और धर्म होता था इसे प्रजा मानती थी। वो समय बीता गया अब ये प्रजातंत्र में धर्म चुने का अधिकार सबको है।सीएम ने आगे कहा जबरिया कोई धर्मांतरण कराए तो कटोर कारवाई का प्रावधान है । हमारी सरकार में नियम है। हमने कार्रवाई की है। शिकायतें मिली हैं तो जांच हुई है, जिम्मेदारों पर एक्शन लिया गया है। कहीं भी जबरिया धर्मांतरण हो रहा है उसकी जानकारी हो तो कार्रवाई करेंगे, बिल्कुल करेंगे।CM ने ये भी कहा- मोहन भागवत धर्म परिवर्तन पर न बोलें। उन्हें पूर्व सीएम रमन सिंह से जानकारी लेनी चाहिए कि उनके शासन (2003 से 2018) में कितनी चर्च बनीं। अगर उनके पास जानकारी नहीं हो, तो मैं उपलब्ध करा सकता हूं, भूपेश बघेल ने कहा कि जहां भी ईसाई होंगे, वहां चर्च बनेगी। इसे ऐसे नहीं कह सकते कि जहां भी चर्च होंगे, वहां ईसाई होंगे। उन्होंने कहा कि अगर किसी स्थान पर सिख रहते हैं, तो निश्चित तौर पर वहां गुरुद्वारा भी होगा. उन्होंने कहा कि चर्च, गुरुद्वारा या अन्य धार्मिक स्थल तभी अधिक बनते हैं, जब उनको मानने वाले लोग अधिक हों।