Home Crime news थाना प्रभारी ने झूठे केस में फसाया ग्रामीणों का आरोप आरंग थाना...
ग्रामीण ने खाया जहर

थाना प्रभारी ने झूठे केस में फसाया ग्रामीणों का आरोप आरंग थाना क्षेत्र का मामला…

191
कानून-व्यवस्था

थाना प्रभारी पर झूठे केस में फंसाने का आरोप; ग्रामीण ने खाया जहर, सुसाइड नोट भी छोड़ा

रायपुर,  राजधानी के आरंग थाना क्षेत्र में पुलिस की कार्रवाई से नाराज एक व्यक्ति बुधराम सोनकर ने जहर खा लिया। जिसे गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती करवाया गया था जहां उनकी मृत्यु हो गई। उसने आरंग थाना प्रभारी पर कार्रवाई नहीं करने और गलत आरोप लगाने का इल्जाम लगाया है। इसके साथ ही एक सुसाइड नोट भी लिखा है। सुसाइड नोट में बुधराम ने लिखा कि मुझे राजू निषाद और राजेश निषाद ने इतना प्रताड़ित किया कि मैं ये कदम उठाने जा रहा हूं, मुझे माफ करना। मैं मरना नहीं चाहता था लेकिन मजबूरी में कदम उठा रहा हूं। राजेश निषाद और राजू निषाद अपने भैया-भाभी का धौंस दिखाकर प्रताड़ित किए हैं। जानकारी मिली है कि बुधराम सोनकर के खिलाफ राजू निषाद ने मारपीट और गाली गलौज की शिकायत आरंग थाने में दर्ज कराई थी। जिसपर बुधराम के खिलाफ धारा 294, 223 के तहत अपराध दर्ज किया गया था। इसके बाद जमानत पर बुधराम रिहा हुआ था। थाने से आने के बाद  बुधराम ने जहर खा लिया। सुसाइड नोट में उसने आरंग थाना प्रभारी पर झूठी कार्रवाई करने का आरोप लगाया। इस मामले में एएसपी ग्रामीण, रायपुर कीर्तन राठौर का कहना है कि मारपीट की घटना के बाद आरोपित को पकड़ा गया था। हालांकि, उसका कहना था कि उसे झूठे आरोप में फंसाया जा रहा है। वहीं सोमवार की सुबह जहरीला पदार्थ खा लिया।बुधराम ने अपने सुसाइड नोट में शिकायत करने वालों पर झूठी शिकायत करने और थाना प्रभारी पर उसकी बात नहीं सुनने का आरोप लगाया है। बुधराम सोनकर का इलाज के दौरान मृत्यु हो गई।