Home Crime news सुराना परिवार के साथ 140 करोड़ की धोखाधड़ी; शेयर के जरिए कोठारी...

सुराना परिवार के साथ 140 करोड़ की धोखाधड़ी; शेयर के जरिए कोठारी बंधुओं ने किया घोटाला

904
कानून-व्यवस्था

सुराना परिवार के साथ 140 करोड़ की धोखाधड़ी; शेयर के जरिए कोठारी बंधुओं ने किया घोटाला

दुर्ग, दुर्ग के सुराना परिवार के साथ सीए व आयकर अधिवक्ता ने मिलकर 140 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की है। सुराना परिवार ने पुलिस में मामले की शिकायत की। जब पुलिस ने उनकी शिकायत दर्ज नहीं की तो उन्होंने कोर्ट में मामला दर्ज किया। न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी दुर्ग पायल टोपनो ने दुर्ग कोतवाली पुलिस को कोठारी बंधुओं के खिलाफ मामला दर्ज करने का आदेश दिया है।

शिकायतकर्ता रजत सुराना ने बताया कि दुर्ग के कोठारी बंधुओं ने उनके व उनकी मां और चाचा के साथ 140 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की है। उन्होंने बताया कि वो महावीर आवास योजना प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर है। दुर्ग निवासी और पेशे से आयकर अधिवक्ता सुरेश कोठारी, सीए श्रीपाल कोठारी ने अपने परिवार के कुसुम कोठारी, सिद्धार्थ कोठारी और ममता कोठारी के साथ मिलकर उनके साथ धोखाधड़ी की है। उन्होंने बताया कि सुरेश कोठारी उनके पिता के बचपन के मित्र थे। साल 2018 तक वो उनकी कंपनी महावीर आवास योजना और रजत विल्डकॉन के डायरेक्टर थे। कंपनी का पूरा काम सुरेश कोठारी और सीए श्रीपाल कोठारी मिलकर देखते थे। इन लोगों ने कंपनी के दस्तावेजों से कूटरचना करके फर्जी दस्तावेज तैयार किया और कम्पनी के शेयर को अपने सहयोगी अन्य व्यक्तियों के साथ मिल कर अपने नाम पर चढ़ा लिया है।

न्यायालय ने दिया मामला दर्ज करने का आदेश
रजत सुराना ने बताया कि उन्होंने अपने अधिवक्ता अभिषेक वैष्णव के माध्यम से न्यायालय में 156 (3) की याचिका प्रस्तुत की थी। इस पर सुनवाई करते हुए न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी ने सिटी कोतवाली दुर्ग पुलिस को आरोपी सुरेश कोठारी, सिद्धार्थ कोठारी, कुसुम कोठारी, ममता कोठारी और सीए श्रीपाल कोठारी के खिलाफ धारा 420, 467, 468, 471, 406, 120 बी, 34 के तहत अपराध दर्ज करने का आदेश दिया है। न्यायालय ने 28 जनवरी 2023 तक मामले की रिपोर्ट देने पुलिस को निर्देशित किया है।

रजत के चाचा को भी दे चुके हैं 54 करोड़ धोखा
रजत सुराना ने बताया कि पश्चिम बंगाल के कोलकाता अंतर्गत बरतला थाने में भी सुरेश कोठारी, सिद्धार्थ कोठारी और सीए श्रीपाल कोठारी के खिलाफ धारा 420, 467, 468, 471, 406, 120 बी, के तहत अपराध दर्ज है। इन लोगों ने उनके चाचा प्रकाश जायसवाल के 54 करोड़ रुपए मूल्य के शेयर की धोखाधड़ी से अपने नाम चढ़ा लिया था। इस मामले में तीनों आरोपी आज तक कोलकाता पुलिस की नजर में फरार हैं।