राजनीति : विधायक के बेटे की विधायकीगिरी से परेशान रायपुर ग्रामीण विधायक का ट्रांसफ़र करवाने जिलाध्यक्ष बेदराम साहू ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को लिखा अनोखा ट्रांसफ़र लेटर …

3307

रायपुर :  रायपुर ग्रामीण विधानसभा क्षेत्रअंतर्गत बीरगांव नगर निगम के पार्षद और रायपुर शहर के JCCJ  जिला अध्यक्ष श्री बेदराम साहू ने छत्तीसगढ़ शासन के माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल जी को पत्र लिखकर क्षेत्रीय विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा का ट्रांसफ़र करने का आवेदन लिखा है जिसमें रायपुर ग्रामीण विधायक के पुत्र पर अपने पिता के विधायक  “पद और पावर” का दुरूपयोग करने का गंभीर आरोप लगाया गया है ,  गुंडे अपराधियों को संरक्षण देने सहित क्षेत्र को अपराधगढ बना देने का आरोप लगाकर विधायक का ट्रांसफ़र करने मुख्यमंत्री को पत्र  लिखा है  ! जिलाध्यक्ष श्री बेदराम साहू ने मुख्यमंत्री को  पत्र में लिखा है कि वर्तमान में ट्रांसफ़र और पोस्टिंग का काम धडल्ले से चल रहा है , आपके द्वारा निकम्मे, निष्क्रीय और भ्रष्ट अधिकारियों के साथ सैकड़ों वेतनधारी कर्मचारियों का तबादला किया जा रहा है , यही मौका है आप हमारे रायपुर ग्रामीण विधानसभा के माननीय विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा का भी ट्रांसफ़र कर दीजिए क्योकिं  वे चुनाव जीतने के बाद से ही क्षेत्र से गायब है , कांग्रेस के विधायक और कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद पुरे क्षेत्र में सारे विकास काम ठप्प पड़े हैं , गरीब, मजदूर और आम जनता दर दर भटकने मजबूर हैं, क्षेत्र में एक हजार से ज्यादा फैक्टरी है लेकिन किसी भी बेरोजगार युवाओं को ठेकेदारी तो दूर की बात, छोटी मोटी नौकरी तक नही दिला पाया, नगर निगम बीरगांव तो केवल नाम का रह गया है यहां कोई भी मूलभूत का काम नहीं होता, पूर्व प्रधानमंत्री श्री मनमोहन सिंह जैसा स्टैंप पैड महापौर है, जिनका सारा पावर विधायक के बेटे ने अपने पास रखा है,  विधायक जी ने चुनाव के दौरान वायदा किया था कि बीरगांव में विधायक कार्यालय खोलकर रोज चार घंटे बैठूगां, लेकिन कार्यालय खोलकर बैठना तो दूर कभी क्षेत्र का दौरा भी नहीं करते, उनके कार्यकर्ता बताते है कि उनके बेटे ने विधायक बनने का शौक पाल रखा है, इसलिए बेटा खुद अपने विधायक पिताजी को अब केवल कांग्रेस पार्टी के कार्यक्रमों में या मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में ही साथ में ले जाते हैं, बाकि जगह उनका बेटा अकेले जाते है,, यहां तक कि नगर निगम के सामान्य सभा से लेकर भूमीपूजन और लोकार्पण भी बेटा ही करता है जिसमें विधायकजी के नाम का पत्थर भी लगाया जाता है ,, सत्ता के दबाव में अधिकारी भी चिंवचांव नही करते, विधायक के जगह बेटे से शासकीय कार्य कराया जाना गंभीर अपराध है, विधायक बेटे की इस करतूत ने बीरगांव सहित रायपुर ग्रामीण क्षेत्र के जनता को यह सोचने पर मजबूर कर दिया है कि क्या विधायक जी सचमुच निर्बल हो गए हैं या अगला विधानसभा चुनाव लड़ने के इच्छा ने बेटे द्वारा जानबूझकर षडयंत्र रचकर माननीय विधायक जी को घर बैठा दिया गया है , माननीय विधायक सत्यनारायण शर्मा जी को आज भी सभी दल के लोग दिल से पसंद करते हैं, लेकिन विधायक जी के बेटे के रवैया, उनके व्यवहार, उनके गुंडे – अपराधियों को संरक्षण देने वाले कार्यशैली के कारण उन्हें बिलकुल भी पसंद नहीं करते,, विधायक और महापौर के पावर का सदुपयोग अच्छे और नेक कार्यों, विकास कार्यों में करने के बजाय, अवैध गांजा- शराब बेचने वालों को संरक्षण देना, भूमाफिया को संरक्षण देना, चाकूबाजों , गुंडो को संरक्षण देना,, अपराधियों को संरक्षण देना और एैसे ही बाहूबली अपराधियों की फौज बनाकर घुमना ,  जिसके कारण पुलिस भी अपराधियों पर कार्रवाई करने की हिम्मत नही करती, और लगातार क्षेत्र में अवैध गांजा, अवैध शराब, चोरी, कबाडी फल फूल रहे हैं, सरेआम दिनदहाडे चाकूबाजी और मारपीट से दहशत का माहौल बना हुआ है,  लगातार अपराध बढ रहा हैं जिसके रोकथाम के लिए विधायक बेटे ने आज तक कभी प्रयास नही किया, अवैध गांजा, शराब के बिक्री पर रोक लगाने कोई प्रयास नही किया,  जिससे प्रमाणित होता है कि विधायक बेटे ने विधायक के पद और पावर का दूरूउपयोग करके अपराधियों को अप्रत्यक्ष संरक्षण दे रहे है, दोषियों को संरक्षण और निर्दोष गरीब जनता जो कांग्रेसी नही है उसे थाना और जेल भेज दिया जाता है,  मुख्यमंत्री महोदय रायपुर ग्रामीण की जनता विधायक बेटे के सामने उनसे डरते हैं और उनके पीठ पीछे सब उन्हें गाली बकते है  !! जिलाध्यक्ष श्री बेदराम साहू ने माननीय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को लिखे पत्र में कहा है कि रायपुर ग्रामीण विधानसभा की जनता ने अपने हितों की रक्षा करने वाले बहुत ही नेक, सज्जन और श्रेष्ठ व्यक्ति को अपना विधायक चुना था, उन्हें क्या पता था कि डमी विधायक बनकर उनका बेटा क्षेत्र की जनता का सुख चैन छीन लेगा, रायपुर ग्रामीण की जनता आपसे – कांग्रेस सरकार से सवाल करता है, बताइए माननीय मुख्यमंत्री जी क्या आप भी अपने जगह अपने बेटे या पिताजी को भेज सकते हैं, क्या कोई पंच, सरपंच, पार्षद या महापौर अपने जगह अपने पति या पिता को भेज सकते हैं , नही… तो फिर हमारे विधायक ने यह अधिकार किस कानून के तहत अपने बेटे को दिया, क्या आपने इसकी अनुमति विधायक को दिया है, यदि हां तो सभी महिला जनप्रतिनिधियों पंच,  सरपंच, महिला पार्षद और  उनके पति या किसी रिश्तेदार को अनुमति क्यों नहीं देते हो !! हमारे रायपुर ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र को अपराधगढ बनाने वाले, जनता को धोखा देकर पिता के जगह बेटा विधायकी कर आम जनता का जीवन नारकीय बना दिया है !!अत: निवेदन है कि यथाशीघ्र विधायक महोदय का ट्रांसफ़र बस्तर संभाग में करने की कृपा करें ताकि उनके बेटे के कारण निर्मित  आतंक से रायपुर ग्रामीण की जनता को मुक्ति मिल सके, मुख्यमंत्री निवास जाकर पत्र देने वाले प्रतिनिधि मंडल में जिलाध्यक्ष बेदराम साहू के साथ जीवन साहू,  राजकुमार साहू,  ओमप्रकाश साहू,  शामिल थे  !!