बीरगांव के ऐतिहासिक दशहरा उत्सव में ओमप्रकाश देवांगन और नंदे साहू को एक मंच पर देखकर कांग्रेस नेताओं में मची खलबली …

3739

रायपुर / बीरगांव  :  WRS  के बाद सबसे बड़ा दशहरा उत्सव बीरगांव में डा. ओमप्रकाश देवांगन के नेतृत्व में पिछले 16 साल से होता आया है, जिसे इस बार कांग्रेस शासन ने  परमिशन नही देकर बंद करा दिया, समिति द्वारा आनन फानन में  दशहरा के एक दिन पहले नया जगह ढूंढकर उरला थाना के बाजू पार्किंग मैदान में रावण दहन किया गया। 

दशहरा समिति के अध्यक्ष श्री बेदराम साहू ने बताया कि कांग्रेस विधायक के सत्ता में आने के बाद बीरगांव क्षेत्र में  पापीयों का अत्याचार बढ गया है,  सही मायने में इसे ही रावणराज कहा जाता है, जगह जगह अवैध शराब, गांजा की बिक्री, अनेक प्रकार के नशे में चूर बच्चे और युवा गुंडागर्दी,  मारपीट, चाकूबाजी और हत्या जैसे घटनाओं के चलते आम लोगो में भय दहशत का वातावरण निर्मित है।

कांग्रेस के जिम्मेदार क्षेत्रीय वरिष्ठ नेताओं द्वारा अपराधियों को संरक्षण मिलता है और प्रार्थी को दंड, बाहूबली गुंडे और अपराधियों को वे साथ लेकर चलते हैं, भ्रष्टाचार की कमाई से अपनी तिजोरी भरने वाले नेता खुलकर यह कहने में संकोच नही करता कि चुनाव में इसी भ्रष्टाचार की कमाये पैसे से वोटरों को खरीदकर हम चुनाव जीते है और आगे भी जीतेगें। 

बेदराम ने कहा कि जब तक जनता शराब और चंद रूपयों में बिकते रहेगें और एैसी सोच वाले नेताओं को जीताते रहेगें – तब तक रावणराज खतम नही हो सकता,  यदि रामराज लाना है तो जनता से पांव पडवाने वाले नहीं, सदैव जनता का पांव पडने वाले सरल, सज्जन, सीधे और नंदे साहू जैसे इमानदार नेता को जीताना होगा, इसीलिए हमने इस बार बीरगांव के प्रसिद्ध ऐतिहासिक भव्य दशहरा में रावण मारने  रायपुर ग्रामीण के पूर्व विधायक श्री नंदे साहू को बुलाया है  !!,

नंदे साहू को मुख्यअतिथि बनाये जाने पर कांग्रेसियों के पेट में फिर दर्द होने लगा, वे लोग अपनी पीडा कम करने  सोशल मीडिया में उल जलूल लिखकर भड़ास निकालने लगे,  हमारे आयोजन के पग पग में  बाधा उत्पन्न करने लगे, कुछ कांग्रेसी मित्रों ने बताया कि हम मजबूर है –  उपर बंगला से हम सबको निर्देश दिए गए हैं , इसी का हमें हर महीने तनख्वाह भी दिया जाता है, सत्तासीन कांग्रेसियों के षडयंत्र के बावजूद  हजारों लोगों की भारी भीड़ के साथ भव्य रावण दहन करने में  हमारी समिति सफल हुई। 

अध्यक्ष श्री बेदराम साहू ने कहा कि इस बार कांग्रेसजनों के द्वारा हमें दशहरा उत्सव मनाने से हर जगह रोका गया, उलझाकर रखा गया,  जिस कारण हम इस साल अपेक्षित तैयारी नही कर पाये , लेकिन अब हर साल इसी मैदान में उरला थाना के बाजू पार्किंग स्थल  जिसका नामकरण “श्रीराम दशहरा मैदान” रखा गया है यहां भव्य आतिशबाजी के साथ रावण और उनके बेटे मेघनाथ, कुंभकर्ण का भी दहन किया जाएगा  !!

बेदराम साहू ने कहा कि इस दशहरा उत्सव में बीरगांव क्षेत्र के लोगों में खुशी के साथ आक्रोश भी दिखा,  खुशी इस बात की थी,  कि सपरिवार शांति से बैठकर अनुराग ग्रंथ मंडली उरकुरा द्वारा मंचन शानदार रामलीला और आतिशबाजी के साथ रावण दहन का आनंद लिया,  वहीं लोगों में आक्रोश इस बात से नजर आया कि डा. ओमप्रकाश देवांगन द्वारा अपने अध्यक्षीय कार्यकाल में बीरगांव के अडवानी स्कूल मैदान में 2005 से शुरू किये गये भव्य दशहरा उत्सव जिसे पिछले 16 साल से हजारों जनता सपरिवार आनंद उठाते रहे हैं। 

डब्ल्यू आर एस के बाद बीरगांव के अडवानी स्कूल का दशहरा एकमात्र सबसे भव्य और शानदार होता रहा, कांग्रेस के राज में वहां अनुमति नहीं देकर भगवान श्रीराम के जीत का जश्न मनाने से बीरगांव के लोगों को विधायक पुत्र के इशारे पर अधिकारियों ने यह कहकर वंचित कर दिया कि अडवानी स्कूल के मैदान में पानी टंकी बनने के बाद अब छोटा हो गया है दुर्घटना की आशंका है इसलिए वहां अब अनुमति नहीं दी जा सकती, लेकिन कांग्रेसियों की ये बात लोगों को इसलिए हजम नही हुवा कि अडवानी स्कूल के वर्तमान मैदान से दस गुणा छोटे बुधवारी बाजार में विधायक और उनके पुत्र द्वारा ही इसी साल रावण दहन किया गया, जहां भाजपा के होरीलाल देवांगन की अध्यक्षता में पिछले कई वर्षों से दशहरा उत्सव मनाया जा रहा था उस स्थान पर भी सत्ता के घमंड में चूर विधायक पुत्र के इशारे पर बलपूर्वक कब्जा कर लिया गया। 

Big Breaking : कांग्रेस ने खतम कर दिया बीरगांव अडवानी स्कूल का दशहरा – लोगों में भारी नाराजगी : डा. ओमप्रकाश बोले – बुराई पर होगी अच्छाई की जीत ; बीरगांव के उरला थाना के पास अहंकारी रावण का वध करेगें पूर्व विधायक नंदे साहू

होरीलाल देवांगन का कहना था कि हम लोग बीरगांव में ही जनमे है, हमारे पूर्वज जिनका यही नेरवा गडा है उनके द्वारा पिछले कई सालों से बुधवारी बाजार में रावण  दहन किया जाता रहा है,  लेकिन कांग्रेस सरकार ने सत्ता के घमंड में जबरदस्ती इस दशहरा उत्सव पर अतिक्रमण कर लिया,  कांग्रेस सरकार का अत्याचार रावण की तरह बेहद बढ गया है जिसका अंत अब करीब है , दशहरा मैदान में उपस्थित भीड़ को संबोधित करते हुए पार्षद और दबंग नेता श्री एवज देवांगन ने कहा कि हर जगह कब्जा करने वाले,  हर चीज़ में बाधा उत्पन्न करने वाले “मैं” “मैं”  करने वाले अहंकारी रावण का अंत अब निश्चित है। 

पूर्व नेता प्रतिपक्ष श्री भीखम देवांगन ने कहा कि चौतरफा विकास ठप्प है, गिनती के उनके लोग ठेकेदारी से लेकर हर तरह के नशे के कारोबार में लिप्त है,  बीरगांव सहित पुरे रायपुर ग्रामीण को अपराधगढ बनाने वाले घमंडी रावण का अंत जरूरी है,  डा. ओमप्रकाश देवांगन ने कहा कि दशहरा मनाने का मुख्य उद्देश्य बुराई रूपी रावण, असत्य, अधर्म, अत्याचार और अहंकार रूपी पापी रावण का अंत करना है, त्रेतायुग में हम सबके आदर्श – मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री रामचंद्र जी रावण का वध करके उनके अत्याचार से लोगों को मुक्ति दिलाई थी,  भगवान राम ने यह संदेश दिया था कि जब जब पाप बढेगा, अपराध बढ़ेगा, भ्रष्टाचार बढ़ेगा, अत्याचार और अहंकार  बढ़ेगा,  तब तब उनका अंत जरूर होगा और कलयुग में उस अहंकारी का अंत जनता के हाथों होगा  !!

दशहरा उत्सव में मुख्यअतिथि के रूप में उपस्थित पूर्व विधायक श्री नंदकुमार नंदे साहू ने विजयादशमी की बधाई और शुभकामनाएं देते हुए उद्बोधन में कहा कि भगवान श्री विष्णु ने धरती में श्री राम के रूप में अवतार लेकर हमें जीवन शैली सिखाया, वे अत्यंत सरल और सीधे स्वभाव के थे, माता पिता के आञाकारी थे 14 बरस का वनवास लेकर कष्ट सहन किया , भगवान श्री राम का पुरा जीवन हमें मार्ग दिखाता है, जनता के बीच लोकप्रिय और न्यायप्रिय थे, रावण जैसे अनेकों दुष्ट राक्षसों का वध करके जनता को सुशासन दिया। 

आज भी वेसे ही शासन की अपेक्षा हम सब करते हैं, सत्ता में विराजमान सरकार और उनके सहयोगियों की यह जिम्मेदारी है कि जनता को बिना भेदभाव अपराध मुक्त सुशासन प्रदान करे , दशहरा के इस पर्व में हम सबको संकल्प लेना चाहिए कि हम सदैव दुसरों की भलाई करें,  पीडित लोगों की मदद करें,  हमें अपने भीतर के अहंकार रूपी रावण का वध करना चाहिए,  बुराई रूपी रावण का अंत करना चाहिए,  नशे और अपराध से दूर रहना चाहिए,, हमें भगवान श्री राम के जीवनशैली को आत्मसात करना होगा  तभी यह दशहरा उत्सव सार्थक होगा  !!

दशहरा उत्सव में सभा का संचालन श्री ओमप्रकाश साहू द्वारा किया गया, दशहरा उत्सव हेतु सरकार से परमिशन नही मिलने के कारण शिवाकाशी से आतिशबाजी के लिए आने वाले टीम को समिति द्वारा मना किया गया,  श्री राजू साहू उरला के टीम द्वारा आतिशबाजी की गई, रावण के 71 फीट पुतले का निर्माण श्री जितेन्द्र साहू और उनके 40 साथियों की टीम ने रातोंरात तैयार किया, अशोक मोर्या के सहयोग से क्रेन द्वारा रावण को खडा किया गया,   टेंट का काम गोलू सुरेश किराया भंडार और साउंड सिस्टम,  लाइटिंग का काम वेदप्रकाश दुष्यंत देवांगन द्वारा नाममात्र शुल्क में किया गया,  श्री राम दशहरा उत्सव समिति बीरगांव के सभी सम्माननीय सदस्य एवम् भगवान श्री महाकालेश्वर महादेव – दुर्गा मंदिर सेवा समिति के सदस्यों ने दिनरात मेहनत कर एक ही दिन में कार्यक्रम को सफल बनाया। 

दशहरा उत्सव में प्रमुख रूप से उपस्थित पार्षद वार्ड 22  अश्वनी चांदरे, केहरु साहू पार्षद वार्ड 36,ज्ञानेश्वरी मिर्झा पार्षद वार्ड 8. डेविड साहू पार्षद पति वार्ड नं 21, नन्हू दीवान,  पूर्व नेता प्रतिपक्ष श्रीमती कल्पना पाटिल, आदर्श देवांगन, डा. हरीश मेहेर, रामनारायन अग्रवाल,  करणसिंह , व्यापारी संघ अध्यक्ष पुरुषोत्तम देवांगन, पूर्व नेता प्रतिपक्ष संतोष वर्मा, जितेंद्र धुरंधर, विकास दुबे, विनय साहू ,खेम सेन, कमल साहू , रोहित साहू,  विजय साहू ,भरत भूषण सिन्हा,  यशवंत निर्मलकर , डॉ जांगड़े भागवत साहू,  जीवन साहू,  संतु राम साहू. प्रवक्ता सोशल मीडिया यशवंत पाटिल, मन्नू बंजारे, बल्लू बंजारे, जोहन चतुर्वेदी, रजत साहू, ओमप्रकाश साहू, धन्नूराम साहू, कमलेश साहू,  उमेश घ्रुव, नानक साहू, जितेंद्र यादव, तारकेश्वर साहू. बलराम साहू, सुरज सेन, ईश्वर सेन,  भुपेंद्र साहू, रोशन ध्रुव,  ध्रुव  राजपूत, लोकनाथ साहू, अश्वनी जंघेल, मानबाई जगत, विकाश दुबे,  मोहम्मद रब्बानी,  खुर्शीद भाई,  नवीन जैन, राजेश रिछारिया,  दुर्गेश साहू, वासू मानिकपुरी, ओमप्रकाश साहू शहीद नगर , रोहित साहू,  कमल साहू,  दीपक दुबे,  पुनीत वर्मा,  रोहित ठाकुर, रिकेश साहू,  जीवन यादव, डा.  ज्वाला प्रसाद,  पंचु बंजारे,  डोमेश देवांगन,  छोटू दीवान,  मोहित साहू , नीरज विश्वकर्मा, विपीन चौबे,  महेन्द्र पांडेय,  चतुर्भुज पवार,  श्रीकांत तिवारी,  विजय साहू,  होरीलाल साहू, श्रीमती  कांती वर्मा , श्रीमती राधिका साहू,  श्रीमती प्रभा साहू, श्रीमती लता साहू,  कैलाश उईके, अशोक मोर्या, भनपुरी के दिग्गज नेता अजय साहू , कोमल साहू,  कुमार वर्मा,  व्यापारी संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी नारायण सेन सहित हजारों रामभक्त शामिल हुए  !!