फार्मासिस्ट के दस्तावेजो में भारी झोल, भर्ती के लिए जमा किए दस्तावेजों की पुलिस कर रही जांच…..

334

रायपुर….तेलीबांधा थाने में फार्मेसी काउंसिल के फर्जीवाड़े का पुलिंदा खुल गया है। काउंसिल से अभी 56 फार्मासिस्टों के दस्तावेजों की अलग-अलग फाइल भेजी गई है। ज्यादातर फार्मासिस्टों के दो-दो प्रमाण पत्र पुलिस को सौंपे गए हैं। एक प्रमाण पत्र फार्मासिस्टों ने पंजीयन करवाने के लिए जमा किया है। दूसरा प्रमाण पत्र फार्मेसी काउंसिल की कमेटी ने उन कॉलेजों से खुद मंगवाया है, जहां से उन्होंने पढ़ाई की है।

फार्मासिस्टों ने जो प्रमाण पत्र जमा किया है, उसमें उन्हें कॉलेज का छात्र बताया गया है, जबकि काउंसिल को जो पत्र प्राप्त हुआ है उसमें छात्र नहीं बताया गया है। पुलिस ने अब तक जिन छात्रों के दस्तावेज फर्जी मिले हैं, उनके पंजीयन से संबंधित सभी दस्तावेज मांगे हैं।

टीआई तेलीबांधा भावेश गौतम का कहना है कि जांच आगे बढ़ाने के लिए दस्तावेज मांगे गए हैं। इस बीच काउंसिल के जांच सदस्यों की टीम ने मंगलवार को एसएसपी प्रशांत अग्रवाल से मिलकर उनसे तेजी से जांच करवाने का आग्रह किया। इस बीच पुलिस ने फर्जीवाड़े की तहकीकात शुरू कर दी है। अभी तक जो जानकारी सामने आई है उसके अनुसार किसी फार्मासिस्ट ने राजस्थान तो किसी ने पंजाब, तो किसी ने तमिलनाडु और यूपी-बिहार के कॉलेजों का प्रमाण पत्र जमा किया है।

सबसे जबरदस्त गड़बड़ी तमिलनाडु और झारखंड के प्रमाण पत्रों की है। पुलिस को कुछ ऐसे फर्जी प्रमाणपत्र भी सौंपे गए हैं, जो डाक से आए हैं। जांच में पता चला है कि फर्जीवाड़ा करने वालों का काउंसिल में इतना तगड़ा लिंक है कि जैसे ही यहां फार्मासिस्टों के दस्तावेजों की जांच शुरू हुई उन्हें पता चल गया।

काउंसिल की जांच टीम ने यहां से जिन-जिन राज्यों के कॉलेजों को सर्टिफिकेट के वेरिफिकेशन के लिए पत्र भेजा, फर्जीवाड़ा करने वालों को पता चल गया। यहां से स्पीड पोस्ट से भेजी गई चिट्ठी तक को जालसाजों ने कॉलेज पहुंचने से पहले ही अपने कब्जे में ले लिया। यहां की चिट्ठी को अपने कब्जे में लेने के बाद वहां से फर्जी चिट्ठी भेज दी जिसमें वहां पढ़ाई न करने वाले को भी वहां का छात्र बताया गया है।

8 राज्यों के 28 कॉलेजों को भेजी चिट्‌ठी : फार्मेसी काउंसिल की जांच समिति ने देश के आठ राज्यों के 25 फार्मेसी कॉलेजों को पत्र भेजा है। अभी यूपी, बिहार, राजस्थान, झारखंड और तमिलनाडु के एक-दो कॉलेजों से ही जवाब आया है।