जिंदगी और मौत से 104 घंटे संघर्ष के बाद सुरक्षित बाहर आया राहुल ; बच्चे को देख माता-पिता के छलके आंसू ; बेहतर इलाज के लिए अपोलो रवाना…

1010
  • City News Raipur
  • जांजगीर-चांपा

मालखरौदा विकासखंड के पिहरीद गांव में 10 जून से 60 फीट गहरे बोरवेल में फंसे राहुल साहू को आखिरकार रेस्क्यू की टीम ने बाहर सुरक्षित निकाल लिया है. राहुल को निकालने के लिए लगातार 97 घंटे से रेस्क्यू जारी था.

Corona Breaking : छत्तीसगढ़ में कोरोना की वापसी ; रायपुर बना नया हॉट स्पॉट ; एक दिन में 18 केस ; 12 जिलों में 3667 सैंपल की जांच

राहुल को देख माता-पिता, परिजन व हर किसी के आंखों से आंसू छलक पड़े. राहुल को अब उनके माता पिता के साथ एंबुलेंस से बिलासपुर के अपोलो अस्पताल के लिए रवाना किया.

सीएम भूपेश बघेल के निर्देश के बाद पहले से ही जांजगीर से अपोलो अस्पताल बिलासपुर तक ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया है. मेडिकल स्टाफ पूरी तैयारी के साथ अलर्ट मोड पर है. रेस्क्यू के दौरान कलेक्टर-एसपी समेत पूरा प्रशासनिक अमला लगातार मौके पर डटा रहा. मौके पर आईजी भी डटे रहे. सभी अफसर पल-पल का अपडेट लेते रहे. राहुल के रेस्क्यू के लिए सीएम भूपेश बघेल के निर्देश पर गुजरात और राजस्थान से भी विशेष टीम बुलाई गई थी.

सीएम बघेल लगातार कर रहे थे माॅनिटरिंग

बता दें कि राहुल को बोरवेल में गिरे 4 दिन हो गए हैं. उसे बचाने शासन-प्रशासन व रेस्क्यू की टीम लगातार जुटी हुई थी. सीएम भूपेश बघेल भी लगातार ऑनलाइन माॅनिटरिंग कर रहे थे और हर संभव राहुल को बचाने की कोशिश करने के निर्देश अफसरों को दे रहे थे.

Raipur Crime : 2 करोड़ का गांजा सहित लाखों का ड्रग्स जलाया गया ; रायपुर के हर मोहल्ले से पकड़े गए बदमाश ; देखें पूरी जानकारी

आखिरकार रेस्क्यू टीम को सफलता मिली है. घटना की जानकरी मिलते ही राहुल का रेस्क्यू शुरू कर दिया गया था, लेकिन तमाम कोशिशें नाकाम हो रही थी. सीएम भूपेश बघेल के निर्देश के बाद शासन-प्रशासन ने राहुल को बचाने में अपना पूरा जोर लगा दिया था