केन्द्र के पास अटके छत्तीसगढ़ के 46 हजार करोड़: केंद्र को चिट्‌ठी भेजी अभी तक राशि जारी नहीं; कई योजनाओं के लिए राशि का है इंतजार…

274

केन्द्र सरकार के पास छत्तीसगढ़ के 46 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का बकाया है। इन पैसों की मांग के लिए राज्य सरकार की ओर से कई बार केन्द्र सरकार को चिट्‌ठी भेजी जा चुकी है लेकिन अभी तक यह राशि जारी नहीं की गई है।

भास्कर ने पड़ताल की तो पता चला कि विभिन्न मदों तथा टैक्स से मिलने वाली राशि का बड़ा हिस्सा जिस पर राज्य सरकार का हक है, उसे केन्द्र सरकार ने दबा रखा है। इसमें कोयला व अन्य खनिजों से मिलने वाली लेवी की ही 4 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि है।

इसके अलावा पुरानी पेंशन योजना के 17 हजार करोड़ रुपए हैं। केन्द्र सरकार द्वारा लगाए जाने वाले टैक्स में राज्य को 13 हजार करोड़ रुपए से कम मिले हैं। इसी तरह मनरेगा तथा 14 वें वित्त के 300-300 करोड़ रुपए भी केंद्र स्तर पर ही रूके पड़े हैं।

  • 10 से अिधक बार लिखे जा चुके हैं पत्र
  • 11 हजार 828 करोड़ रुपए नक्सल मोर्चे के नहीं मिले
  • 13 हजार करोड़ रुपए टैक्स में कम मिले

बिन पैसा.. सब सून

  • कर्मचारियों के महंगाई भत्ते और एचआरए देने में बाधा।
  • भवन निर्माण तथा अन्य सुविधाएं विकसित करने में बाधा।
  • धान खरीदी के लिए कर्ज लेना पड़ता है
  • मृूलभूत सुविधाओं के विकास पर असर

केन्द्र सरकार के पास अटके हैं राज्य के ये पैसे

  • खनिजों की एडिशनल लेवी के 4170 करोड़
  • पुरानी पेंशन योजना की 17240 करोड़
  • 15 वें वित्त में टैक्स वसूली में छग को 13089 करोड़ कम मिले
  • मनरेगा के 332 करोड़ रुपए
  • 14 वें वित्त की 2018-19 एवं 2019-20 के 300 करोड़
  • 11,828 करोड़ नक्सल मोर्चे पर खर्च हुए, वे भी नहीं मिले

यह सब मांगे भी केन्द्र के पास लंबित

  • पंचायतोें की योजनाओं की राशि 60-40 की बजाय 50-50 की जाए।
  • धान से बायो-एथेनाल बनाने के नियम को शिथिल किया जाए।
  • आधिक्य अनाज घोषित करने का अधिकार राज्य को मिले।
  • कम पेड़ों वाले आकांक्षी जिलों में 5 मेगावॉट तक सोलर संयंत्र की स्थापना की अनुमति।
  • वन संरक्षण अधिनियम-1980 के तहत स्कूलों को 5 हेक्टेयर जमीन दी जाए।
  • राज्य को 40 हेक्टेयर तक वन भूमि व्यपवर्तन की अनुमति दी जाए।