रायपुर। मरवाही चुनाव से जुड़ी बड़ी खबर सामने आई है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे ) ने भाजपा को समर्थन दे दिया है। इसकी घोषणा जेसीसीजे अध्यक्ष अमित जोगी ने कर दी है। अमित ने कहा है कि शुक्रवार देर रात विधायक दल के नेता धरमजीत सिंह और विधायक दल के सचिव राजेंद्र राय ने जानकारी दी।

उन्होंने भाजपा के प्रत्याशी गंभीर सिंह का समर्थन करने का निर्णय लिया। प्रमोद शर्मा और अधिकांश पार्टी कार्यकर्ता भी इस बात पर अपनी सहमति दे चुके हैं। अमित ने कहा कि उनकी भाजपा के किसी नेता से आज तक इस संबंध में सीधा संवाद नहीं हुआ है। वे अपनी पार्टी के नेताओं की इस राय से पूर्ण रूप से सहमत हैं।

अमित ने कहा कि उनका अपना मानना है कि वैचारिक रूप से क्षेत्रीय दल और राष्ट्रीय दल में स्थायी समझौता संभव नहीं है। बशर्ते कि राष्ट्रीय दल हमारी स्वराज की भावना का सम्मान करे। किंतु वर्तमान परिप्रेक्ष्य में जब कांग्रेस ने मेरे स्व. पिता अजीत जोगी के अपमान को अपने प्रचार का मुख्य केंद्र-बिंदु बना ही लिया है

और मेरे परिवार को चुनाव के मैदान से छलपूर्वक बाहर कर दिया है, तो ऐसी परिस्थिति में  मुझे मेरे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का निर्णय स्वाभाविक और सर्वमान्य लगता है। वैसे भी मुझे पूरी उम्मीद है कि ये उपचुनाव न्यायपालिका की चुनाव याचिका की कसौटी में स्वमेव एक साल के भीतर स्थगित हो जाएगा। मरवाही की जनता को अपनी इच्छा अनुसार विधायक चुनने का अवसर एक बार फिर ज़रूर मिलेगा।

अमित ने कहा है कि ऐसे में आज उनके सामने एक ही विकल्प है। अमित ने मरवाही की जनता से अपील की है कि उनके स्व. पिता को अपमानित कर रहे कांग्रेस के लोगों के विरुद्ध वोट दें। अजीत जोगी के मरणोपरांत उनका अपमान करने वाले कांग्रेसियों को सबक सिखाने का इस से बेहतर मौका नहीं मिलेगा।

अमित ने कहा है कि उनकी मां डॉ. रेणु जोगी से इस भी संबंध में चर्चा की और वो इस बात से सहमत है। अजीत जोगी के स्वर्गवास के बाद पार्टी- और परिवार में उनका निर्णय अंतिम होता है।

कांग्रेस की एक बार फिर जमानत ज़ब्त कराना ही एकमात्र उद्देश होना चाहिए। सही मायने में यही मरवाही के कमिया अजीत जोगी का असली सम्मान होगा। अमित जोगी ने विश्वास व्यक्त किया है कि जनता हमेशा की तरह उनके परिवार के सम्मान की रक्षा करेगी।