सिटी न्यूज रायपुर – 

शासन – प्रशासन की लापरवाही के कारण राजधानी रायपुर बना कोरोना का गढ , देश में नही बल्कि विश्व में रायपुर शहर का नाम सबसे उपर पहुंच गया है, कोविड-19 की आर. ओ.  मतलब बेसिक रिप्रोडक्टिव रेट मात्र 7 दिनों में 0.7 से 7 पार कर चुकी है जो अपने आप में वल्र्ड रिकार्ड है, और यह बताता है कि रायपुर मे संक्रमण कितनी गति से फैल रहा है।

R-7 का मतलब एक संक्रमित व्यक्ति 7 लोगों को संक्रमित कर रहा है जबकि महामारी के चरम में इटली के लोमबारडी और अमरीका के न्यूयार्क में आर-5.6 से ज्यादा नहीं बढ़ा था।

बावजूद जिला प्रशासन , निगम प्रशासन और स्वास्थय विभाग की गंभीरता नजर नही आता , इनके  द्वारा जारी किये गये सारे हेल्प लाइन नंबर बंद रहता है या फिर घंटी बजेगी तो कोई उठायेगा नही यदि उठा लिया तो जवाब सुनकर एैसा लगता है कि किसी अनपढ , अनाडी को फोन उठाने कंट्रोल रूम में बिठा दिया गया है जो 104 में फोन करने की केवल सलाह देता है,   कोविड टेस्ट जांच के लिए मोहल्ले मोहल्ले ऑनकॉल घर पर गली गली जाकर कोरोना जांच करने की बडी बडी बात करने वाले नेता केवल फोटोबाज साबित हो रहे है,  ई -ऱिक्शा का अता – पता नही है और ना ही हास्पीटल और बेड की जानकारी देने वाला हेल्पलाइन नंबर , हो या इमरजेंसी नंबर सहित जितने भी नंबर जारी किये गये है लगभग सभी मे फोन करके सरकार की व्यवस्था को सभी नंबरो पर आज सिटी न्यूज दोपहर से शाम तक कंट्रोल रूम से लेकर कलेकटर और स्वास्थ्य मंत्री तक को फोन किया गया , कलेक्टर और मंत्री जी सहित कुछ नंबरों पर बात हुई किन्तु आम जनता या कोरोना के मरीजों को आवश्यक जानकारी देने वाले नंबरों से निराशा हाथ लगी यही कारण है कि लोग परेशान है, दर दर भटकने मजबूर है !!

सिटी न्यूज रायपुर….