• City News Chhattisgarh
  • Crime news 

किसान इंडिया बायोटेक कंपनी के नाम से किसानों से करोड़ों की ठगी करने वाले गिरोह का बिलासपुर पुलिस ने पर्दाफाश किया है। पुलिस ने शनिवार को गिरोह के 3 सदस्यों को गिरफ्तार कर बैंक पासबुक, ATM कार्ड, मोबाइल, रसायनिक खाद, 2.5 लाख रुपए सहित कागजात बरामद किया है। गिरोह ने छत्तीसगढ़ सहित मध्य प्रदेश, पंजाब, ओडिशा और बिहार में सैकड़ों लोगों को अपना शिकार बनाया है।

पुलिस ने बताया कि कुछ लोगों ने गांधी नगर निवासी प्रतिमा मिश्रा को ऑर्गेनिक खाद की डीलरशिप देने का झांसा देकर किश्तों में 2 और 3 लाख रुपए ले लिया। कई दिनों तक खाद की सप्लाई नहीं होने पर प्रतिमा ने संपर्क साधा तो मोबाइल बंद मिले। तोरवा स्थित ऑफिस गई तो वहां भी ताला लगा था। ठगी का अहसास होने पर उन्होंने सिविल लाइन थाने में FIR दर्ज कराई। जिसके बाद पुलिस ने ‘ऑपरेशन किसान’ शुरू किया।

यह भी पढ़ें – सड़क दुर्घटना : नई कार खरीदकर जा रहे थे घर ; गाड़ी टकराई पेड़ से ; एक की मौके पर ही मौत

इस तरह शातिर ठग पुलिस के हत्थे चढ़े

जांच के दौरान किसान इंडिया बायोटेक के नाम पर बंधन बैंक बिलासपुर में खोले गए खाते से जानकारी एकत्र की गई। इससे पता चला कि दिसंबर 2019 से जनवरी 2020 तक खाते से करीब 1,76,41,744 रुपए का अदान-प्रदान किया गया। एक खाता सागर में भी कोटक महिंद्रा बैंक की शाखा में खोल 40 लाख रुपए से ज्यादा की रकम निकाली गई। यह खाते एक आधार नंबर पर अलग-अलग नाम से खोले गए थे।

राजनांदगांव में प्रचार-प्रसार करते पकड़े गए

यह भी सामने आया कि आरोपी उत्तर प्रदेश के गोरखपुर, बलरामपुर, लखनऊ आदि शहरों के रहने वाले हैं। इस बीच राजनांदगांव में ग्लोबल एग्री बायोटेक के नाम से कुछ लोगों के प्रचार-प्रसार करने की सूचना मिली। इस पर पुलिस ने दबिश देकर देवरिया, UP निवासी शक्ति सिंह उर्फ सतीश सिंह, बलरामपुर, UP निवासी प्रदीप शर्मा उर्फ सौरभ सिंह और गोरखपुर निवासी कृष्ण मोहन पांडेय को धर दबोचा।

यह भी पढ़ें – Breaking : 8 साल के बच्चे पर तेंदुए ने किया हमला ; मां ने जानवर की आंखों में धूल-मिट्टी डालकर बेटे को छुड़ाया ; देखिये पूरी खबर

किसानों को उन्नत फलदार वृक्ष के बीज के नाम पर बनाते शिकार

आरोपियों ने बताया कि राजनांदगांव में ग्लोबल एग्री टेक्नोलॉजी के नाम से कार्यालय खोला था। राजनांदगांव, डोंगरगढ़, दुर्ग और कांकेर के लोगों को टार्गेट कर ठगी के फिराक में थे। हर बार अपना नाम बदल कर विभिन्न राज्यों के किसानों को उन्नत फलदार वृक्ष के बीज की डीलरशिप के लिए किसान इंडिया बायोटेक से जुड़ने का झांसा देते थे। फिर 50 हजार से 10 लाख रुपए तक लेकर भाग निकलते थे।

यह भी पढ़ें – छत्तीसगढ़ के स्कूल – कॉलेजों में 1 जनवरी से सभी कक्षाएं शुरू करने पर हुई चर्चा ; देखिये भूपेश कैबिनेट में लिए गए 14 अहम फैसले..