सिटी न्यूज रायपुर – बीरगांव

राजधानी रायपुर से लगा हुवा बीरगांव निवासी और बोरसी के सीधा साधा किसान परिवार चोवा देवांगन ने सिटी न्यूज को बताया कि हजार एकड जमीन के मालिक राजेश अग्रवाल नामक व्यक्ति द्वारा शासन के आदेश के विरूद्ध जिसमें लगभग डेढ सौ एकड सिलिंग की जमीन को सरकारी खाते में जमा करने से बचने पैसे के बल पर भ्रष्टाचार के ऱास्ते चलकर  भोलेभाले किसानो को मोहरा बना लिये हैं ,, राजेश अग्रवाल के प्रताडना का शिकार मुन्ना देवांगन ने बताया कि राजेश अग्रवाल बेहक – अनावश्यक हमारी जमीन पर कब्जा करने  का प्रयास. कर पिछले पांच साल से हमें प्रताडित कर रहा है, पटवारी तहसीलदार से भी कोई मदद नही मिली ,, नतीजन आज हमें अपने ही 20 एकड खेती जमीन को अपना कहने संघर्ष करना पड रहा है, पटवारी से कलेक्टर तक गुहार लगा लिये सभी कहते है कि राजेश  अग्रवाल आप लोगों को बेहक परेशान कर रहा है लेकिन हमारे पक्ष में फैसला लेने में अनावश्यक विलंब कर रहे है,, हमारा पुरा परिवार राजेश अग्रवाल के प्रताडना और सरकारी सिस्टम से तंग आ चुका है , अब आखिरी उम्मीद के रूप में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से गुहार लगायेगें वहां भी न्याय नही मिलने पर सपरिवार  इच्छामृत्यु की मांग करेगें  !!

मुन्ना चोवा देवांगन ने बताया कि 30 साल पहले 1990 में पिताजी कुंजलाल देवांगन जो कि रेलवे में नौकरी करते थे रिटायरमेंट के बाद मिले पैसे और जमा पूंजी से बोरसी में बीरगांव निवासी राजेश अग्रवाल दाऊ के सगे भाई से 20 एकड खेती जमीन खरीदकर, प्रमाणीकरण कराकर पिताजी के जीवन के अंतिम पडाव तक हम सब भाई मिलकर, वहीं रहकर 25 साल तक बिना किसी विवाद के खेती किसानी कर रहे थे ,,  पांच साल पहले 2015 में पिताजी के निधन के बाद जब हम वारिसान – चारो भाई और बहन फौती उठाने पटवारी के पास गये तो उसी दिन राजेश अग्रवाल भी पटवारी से यह कहकर आपत्ती दर्ज करा दिया कि इस जमीन पर मेरा भी अधिकार है,  मेरे भाई ने मुझे बताये बगैर हमारे एक हजार चालीस एकड जमीन में से 20 एकड खेती जमीन को कुंजलाल देवांगन को 30 साल पहले  बेच दिया था,, मुझे मेरा हक चाहिये जब तक मेरा भाई मुझे बंटवारा नही दे देता तब तक उनके वारिसान – देवांगन बंधुओं के नाम पर फौती उठाने एवम् खरीदी बिक्री पर रोक लगाया जाये ,,  तब से लेकर आज तक हम अपने ही खेती जमीन पर अधिकार पाने पिछले पांच साल से न्याय के लिये चक्कर लगा रहे है, दर दर भटक रहे है,, अब हमारा परिवार इस सिस्टम से  तंग आ चुका है ,, अंतत: परिजनों ने मिलकर फैसला किया है कि अब आखिरी उम्मीद के रूप में मुख्यमंत्री भुपेश बघेल से मिलकर अपनी पीडा बताकर  न्याय की गुहार लगायेगें और अगर वहां भी निराशा हाथ लगने पर परिवार सहित इच्छामृत्यु की मांग करने का निर्णय परिवार ने लिये है  !!

बताया जा रहा है कि राजेश अग्रवाल और उनके भाई लोगों की एक हजार एकड से भी ज्यादा जमीन पुरे क्षेत्र में है , बीरगांव के ब्यास तालाब और आसपास की कई एकड जमीन भी इन्ही लोगो की है, जिनमें कुछ दिन पहले भारी मात्रा में अवैध शराब पकडा गया था,,,  सरकार और शासन द्वारा कई बार अग्रवाल बंधुओं को सिलिंग की लगभग डेढ सौ एकड जमीन सरकारी खाते में जमा करने का आदेश कई बार- कई सालों से देते आ रहे है,, उसी से बचने ये राजेश अग्रवाल षडयंत्र रचकर कई किसान भाइयों पर बेहक पटवारी से सेटिंग कर एक सिंपल आवेदन / आपत्ती दर्ज कराकर गांव के दर्जनों भोलेभाले किसानों को पटवारी, तहसीलदार, कमीशनर, कोर्ट कचहरी में उलझाकर फंसाकर रखा है,, ताकि डेढ सौ एकड जमीन सरकार के खाते में जमा करने से बचने – बहाना मिलता रहे, और डेढ सौ एकड जमीन का फायदा उठाते रहें, कई साल से ये अग्रवाल बंधु यही चाल चलकर किसानों को प्रताडित और सरकार को बरसों से चुना लगाते आ रहे  है  !!