• 05 AUGUST 2020
  • City news 
  • Crime news 

Whatsapp button

नई दिल्ली। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पिछले साल प्रतिबंधित भाकपा (माओवादी) के बारूदी सुरंग विस्फोट में हुई छत्तीसगढ़ के भाजपा विधायक भीमा मांडावी की मौत के मामले के मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया है।

एनआईए के प्रवक्ता ने यहां बताया कि नौ अप्रैल, 2019 को बारूदी सुरंग विस्फोट में हुई विधायक की मौत में हरिपाल सिंह चौहान (44)सह साजिशकर्ता था जो दंतेवाड़ा जिले का रहने वाला है।

यह भी पढ़ें – नाले में प्रचंड उफान आने से बही कार, बहते कार का कांच खोलकर बाहर निकला ड्राइवर

उसे सोमवार को गिरफ्तार किया गया और मंगलवार को जगलदपुर की एनआईए अदालत में पेश किया गया। अदालत ने उसे तीन दिन के लिए एनआईए की हिरासत में भेज दिया। इस मामले में गिरफ्तार किया गया वह छठा व्यक्ति है।

इस प्रतिष्ठित जांच एजेंसी ने बताया कि नकुलनार गांव में रोजमर्रा के उपयोग की चीजों के थॉक व्यापारी चौहान ने देशी बम के लिए जरूरी सामग्री खरीदी थी जिससे विधायक की जान गयी थी।

यह मामला पिछले साल नौ अप्रैल को दंतेवाड़ा में श्यामगिरि गांव के समीप हुए बम धमाके और उसके बाद भाकपा (माओवादी) के कार्यकर्ताओं द्वारा की गयी अंधाधुंध गोलीबारी से जुड़ा है।

इस हमले में दंतेवाड़ा के भाजपा विधायक भीमा मांडावी और छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के चार पुलिसकर्मियों की जान चली गयी थी।

यह भी पढ़ें – बडी खबर : छत्तीसगढ़ में सात नये जिले बनेगें : 15 अगस्त को हो सकती है घोषणा : अब 27 से बढकर 34 जिले हो जायेगें….?

पुलिसकर्मियों के हथियार भी लूट लिये गये थे। एनआईए ने पिछले साल 17 मई को फिर यह मामला दर्ज किया था। अधिकारी के अनुसार दो अन्य आरोपियों-भीमा ताती और मडका राम ताती को इस साल सात अप्रैल को एनआईए ने गिरफ्तार किया था।

बाद में तीन और आरोपी — लक्ष्मण जायसवाल, रमेश कुमार कश्यप और कुमारी लिंगे ताती को 29 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था।

Whatsapp button

Youtube button

यह भी पढ़ें – ग्रामीण क्षेत्रों में शराब दुकानें खोलने के विरोध में भाजपा सांसद ने प्रदेश सरकार के खिलाफ खोल दिया है मोर्चा