Home India news Chhattisgarh news

अज्ञात नंबर से वीडियो कॉल आये तो हो जाये सावधान, वरना पड़ सकते है बड़ी मुसीबत में।

Whatsapp button

रायपुर. साईबर ठग लोगों को फंसाने के लिए एक खतरनाक तरीका अपना रहे हैं। इसमें अंजान नंबर से वाट्सऐप में वीडियो कॉल किया जाता है, जैसे ही कॉल रिसीव करेंगे। दूसरी ओर वीडियो में एक युवती अपने कपड़े उतारती हुई नजर आती है।

साथ ही वह वीडियो कॉल अटेंड करने वाले से भी उसी तरह मूवमेंट करने को कहती है। बाद में इससे मिलता जुलता दूसरा वीडियो भेजती है और उसे सोशल मीडिया में वायरल की धमकी दी जाती है। वायरल होने से रोकने के एवज में पैसों की मांग की जाती है।

भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआई) के प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा इसी तरह की साइबर ठगी का शिकार होते-होते बच गए। उनकी शिकायत पर पुरानी बस्ती पुलिस ने अज्ञात ठगों के खिलाफ ब्लैकमेलिंग और आईटी एक्ट के तहत अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया है।

कमिटी गठन कर 7 दिनों में सोपनें थे सर्वे का रिपोर्ट, लेकिन 10 दिन बीत गया अभी तक कमिटी ही नही बना! कलेक्टर ने मांगा जवाब।

पुलिस के मुताबिक 30 अगस्त की आधी रात को आकाश शर्मा के वाट्सऐप पर अज्ञात नंबर से हाय हेलो का मैसेज आया। आकाश ने मैसेज करने वाले का नाम पूछा, तो दूसरे ओर से कुछ जवाब नहीं आया। कुछ देर बाद वाट्सऐप से ही वीडियो कॉल आ गया।

वीडियो कॉल रिसीव किया तो…

आकाश ने वीडियो कॉल रिसीव कर लिया। जैसे ही उसने वीडियो कॉल रिसीव किया, दूसरी ओर से एक युवती एक-एक करके अपने कपड़े उतारने लगी। अचानक यह देखकर आकाश कुछ समझ नहीं पाया। करीब 20 सेकंड के बाद उसने वीडियो कॉल बंद कर दिया। इसके बाद थोड़ी देर बाद उसी वाट्सऐप नंबर से एक वीडियो आकाश को मिला।

सोशल मीडिया में वायरल करने की धमकी

वीडियो अश्लील था। उसमें युवक-युवती के चेहरे नजर नहीं आ रहे थे, लेकिन वीडियो कॉल करने वाली युवती की तरह कपड़े उतार रहे थे। इसके बाद आकाश को व्हाट्सएप मैसेज में कहा गया कि यह वीडियो उसका है। इसे फेसबुक और दूसरे सोशल मीडिया में शेयर किया जा रहा है। इससे बचना चाहते हो, तो हमें पैसे दो। इससे थोड़ी देर के लिए आकाश सोच में पड़ गया।

राजधानी में अब कोरोना ने निगला युवाओं के प्रेरणाश्रोत कविवर दिनेश पांडे को – इस बलिदान से युवाओं ने लिया प्रण : कोरोना को हराकर – भगाकर लेगें दम…!!

इस बीच उसे वाट्सऐप में ही एक बैंक खाता नंबर मैसेज किया गया और इसमें 7100 रुपए जमा करने के लिए कहा गया। पैसे जमा नहीं करने पर अश्लील वीडियो को अपलोड करने की धमकी दी गई।

पुलिस कर रही जाँच

इस तरह के दबाव के बाद आकाश को ठगों का फंडा समझ में आ गया और ठगों के दबाव में नहीं आए। बल्कि सीधे पुलिस को सूचना दी। उन्होंने पुलिस को मामले की पूरी जानकारी दी। इसके बाद इसके आधार पुरानी बस्ती पुलिस ने अज्ञात ठगों के खिलाफ ब्लैकमेलिंग, आईटी एक्ट के तहत अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया है।

यूपी का है गिरोह

पुलिस की जांच में खुलासा हुआ है कि साइबर ठगों का गिरोह यूपी के ग्रेटर नोएडा का है। इस पैटर्न में कई ठगी हो चुकी है कुछ लोगों को ठगों ने कथित अश्लील वीडियो वायरल करने का इतना खौफ दिखाकर लाखों रुपए ठग लिए। इससे कई पीड़ित खुदकुशी करने की स्थिति में भी पहुंच चुके है।

Youtube button

 विज्ञापन के लिए संपर्क करें –  8889075555