रायपुर. कोरोना संक्रमण की वजह से विधि विभाग के अनुभाग अधिकारी नंदन सिंह बिष्ट की मौत हो गई। उसके बाद मंत्रालय के कर्मचारी भी कार्यालय बंद कराने की मांग कर रहे हैं। वरिष्ठ अफसरों ने मंत्रालय भवन को बंद करने की मांग तो नहीं मानी लेकिन अब उन्हें कोरोना संक्रमण से बचाने की नई कोशिश की जा रही है। बताया जा रहा है, सोमवार से मंत्रालय और संचालनालय में कोरोना की दवाएं बांटी जाएंगी।

गौरतलब है कि नंदन सिंह बिष्ट के निधन और 45 लोगों के संक्रमित होने का हवाला देते हुए मंत्रालय को बंद करने की मांग की। कर्मचारी नेताओं ने बताया, मुख्य सचिव ने मंत्रालय को बंद करने से इनकार कर दिया। उनका कहना था, ऐसा केवल मुख्यमंत्री के आदेश से हो पाएगा। उन्होंने यह जरूर कहा, सोमवार को वे कर्मचारियों को कोरोना की दवाएं बांटेंगे।

यहां जानें क्या होते हैं थायराइड के लक्षण और इस बीमारी से बचने के कुछ तरीके…डा. आकाश

मृत पॉजिटिव मरीज के अंतिम संस्कार में नहीं होगा विलंब

कोरोना संक्रमित मृत व्यक्तियों के शव का दाह संस्कार करने में अब विलंब नहीं होगा। मृतक का उसी दिन अंतिम संस्कार किया जाएगा। मारवाड़ी श्मशान घाट में गैस मशीन से दाह-संस्कार किए जाने वाली बंद पड़ी मशीन को शीघ्र शुरू करने के निर्देश महापौर एजाज ढेबर ने अधिकारियों को दिए हैं।

महापौर ने शनिवार को मारवाड़ी श्मशान घाट का निरीक्षण किया। व्यवस्थाओं को चौक-चौबंद रखने को कहा। उन्होंने वहां गैस मशीन से दाह संस्कार किए जाने वाली मशीन को भी देखा। बंद मिलने पर निगम अधिकारियों पर नाराजगी जताई।

राजधानी रायपुर में कोरोना संक्रमितों के इलाज की दर तय फिर भी अस्पतालों की मनमानी जारी, उड़ा रहे हैं शासन के आदेश की धज्जियां – CMHO मीरा बघेल नींद में बेखबर..!!

संदिग्धों के भी अंतिम संस्कार करने के निर्देश

स्वास्थ्य विभाग ने कोविड-19 के संभावित मरीज की मृत्यु होने पर कोरोना संक्रमण की पुष्टि के लिए जांच के लिए सैंपल लेकर शव के कोविड पार्थिव मरीज की ही तरह प्रबंधन व अंतिम संस्कार के निर्देश दिए हैं। विभागीय अपर मुख्य सचिव रेणु जी. पिल्ले ने सभी कलेक्टरों एवं जिला दंडाधिकारियों को परिपत्र जारी कर कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने कहा है।

उन्होंने मरीज के जिले से संबंधित नोडल अधिकारी को पार्थिव शरीर का परिवहन और प्रबंधन सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने सभी कलेक्टरों को कोरोना संक्रमित पार्थिव शरीर के प्रबंधन और अंतिम संस्कार के लिए निर्धारित प्रोटोकॉल एवं दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए सावधानीपूर्वक पैकिंग, सुरक्षित परिवहन, मार्चुरी एवं पोस्टमॉर्टम कक्ष (शव परीक्षण की स्थिति में) के विसंक्रमण तथा श्मशान घाट, कब्रिस्तान या शवदाह गृह में सभी जरूरी सावधानियां बरतने कहा है।