तीन दिन बाद मिली शिवनाथ नदी में डूबी कार, एक शव भी बरामद, जांच में पता चलेगा हत्‍या है या आत्‍महत्‍या

1476

दुर्ग रविवार की रात को शिवनाथ नदी में कार डूबने की घटना के बाद उसकी तलाश लगातार जारी थी। बुधवार को यहां पर एक दर्जन मजदूर मछुआरों ने पहले शिवनाथ नदी की पूजा-अर्चना की उसके बाद वह जाल लेकर नदी में उतरे। जहां पर 10 मिनट के भीतर कार तक पहुंच गए। जानकारी के अनुसार कार में एक शव भी बरामद किया गया है। शव रायपुर के 36 वर्षीय निशांत भंसाली का बताया जा रहा है।पुलिस ने बताया कि परिवार से लड़ाई के बाद रायपुर से दुर्ग की तरफ आया था। जांच के बाद पता चलेगा कि हादसा था या आत्‍महत्‍या। इधर, प्रशासन ने क्रेन की मदद से कार को नदी के बाहर निकाला गया। इधर, पचपेड़ी नाका रायपुर निवासी निशांत भंसाली के घर वाले भी शिवनाथ नदी दुर्ग पहुंच गए हैं। उन्होंने प्रशासन को बताया कि घटना के समय से ही नितेश लापता है। राजनांदगांव से दुर्ग की ओर आ रही एक कार पुलगांव के पुराने पुल से शिवनाथ नदी में गिर गई। कार कौन सी है और उसमें कितने लोग सवार थे इसकी अधिकृत जानकारी पुलिस को भी नहीं मिल पाई है। सूचना के बाद सोमवार से नदी में एसडीआरएफ की टीम पानी में डूबी कार को खोज कर रही है।

घटना रविवार रात 11.30 बजे के आसपास की बताई जा रही है। प्रत्यक्षदर्शी गोताखोर श्याम ढीमर ने बताया कि वह रात करीब 11.30 बजे नदी में हाथ मुहं धो रहा था। इस दौरान धमाके की आवाज सुनाई दी। श्याम को लगा कि ऊपर ओवरब्रिज में कोई गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हुई होगी। लेकिन कुछ ही देर बाद उसकी नजर नदी पर पड़ी।

रविवार को दुर्ग में दिनभर बारिश हो रही थी। बारिश और शिवनाथ नदी के बढ़ते जलस्तर को ध्यान में रखते हुए पुलिस ने पुराने पुल पर का रास्ता बंद कर दिया था। ताकि पुल पर कोई आवागमन न कर सके। यह अनुमान लगाया जा रहा है कि कार चालक ने ही लगाए गए मार्ग अवरोधक को हटाया होगा और गाड़ी को पुराने पुल के ऊपर से ले गया होगा। बरसात की वजह से पुल पर लगाई गई रेलिंग को निकाल दी गई है। लगाई गए मार्ग अवररोध से करीब 50 मीटर आगे पुल पर गाड़ी के चक्के के निशान नजर आ रहे है। घटना स्थल पर यह भी चर्चा रही कि कार में दो अथवा दो से अधिक लोग सवार थे। गोताखोर श्याम ढीमर ने बताया कि कार में कितने लोग सवार रहे होंगे। इसके बारे में उसे जानकारी नहीं है।