• 39850 टन खाद का उठाव, संक्रमण के खतरे के बीच खेतों की सफाई शुरू
  • दोहरी मार: जिन गांवों में कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए हैं वहां कृषि कार्य चौपट हो गया है, संक्रमितों के स्वस्थ्य होते तक करना होगा इंतजार

08 june 2020

City News – CN

राजनांदगांव | कोरोना वायरस की वजह से संक्रमण का खतरा बना हुआ है। इससे हर कोई प्रभावित है। इधर जिले के किसानों ने अनलॉक 1.0 में थोड़ी छूट मिलने के बाद खेती की तैयारी शुरू कर दी है। खाद-बीज का भंडारण किया जा रहा है। खेतों की सफाई के साथ ही मेड़ तैयार किए जा रहे हैं। हालांकि उन गांवों में कृषि कार्य चौपट है जहां पर कोरोना के पॉजिटिव केस सामने आए हैं।

इन गांवों के किसानों को संक्रमितों के स्वस्थ्य होने तक संपूर्ण लॉकडाउन का पालन करना होगा। जिले के किसानों ने कोरोना संकट काल में ही 243 करोड़ रुपए का कर्ज ले लिया है। अभी सैकड़ों किसान कृषि ऋण लेने बचे हुए हैं।पहली बार जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक ने ऋण वितरण का 85 प्रतिशत टारगेट अभी से ही पूरा कर लिया है।

550 करोड़ रुपए वितरण का लक्ष्य दिया गया है। बताया गया कि 30 सितंबर तक वितरण करना है। अब तक 66 हजार 848 किसानों ने ऋण लिया है। इसी अवधि में गत वर्ष 26 हजार 771 किसानों को ही ऋण जारी हुआ था। 

खाद वितरण में नंबर एक पर है जिला 
खाद वितरण और भंडारण में भी जिला प्रदेश में नंबर वन पर चल रहा है। इस बार किसानों को खाद लेने में दिक्कत न हो, इसके लिए 89 सोसाइटियों के माध्यम से 178 खाद वितरण केन्द्रों को विधानसभा वार बांटा गया। इस हिसाब से खाद वितरण शुरू किया गया है।

जिले में 63 हजार टन खाद का भंडारण करना है। इसमें 54 हजार 953 टन का भंडारण कर चुके हैं। 39 हजार 580 टन खाद का वितरण कर चुके हैं। हाल ही में यूरिया और डीएपी खाद की कमी भी सामने आई थी। 
दो दिन तक रहा खाद का संकट 
दो दिन पहले ही रैक आने के बाद समस्या दूर हुई। इसी तरह किसान बीज की खरीदी भी तेजी से कर रहे हैं। हालांकि पहली मानसूनी बारिश के बाद इसमें और बढ़त होगी। 22 हजार 960 क़्वींटल  का बीज का भंडारण हो चुका है। इसमें 15 हजार 47 क़्वींटल खाद का उठाव किसान कर चुके हैं।

जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के सीईओ सुनील कुमार ने बताया कि कोरोना का संकट है पर किसान तैयारी में जुट गए हैं। खाद का लगातार उठाव हो रहा है। मानसूनी बारिश के बाद इसमें और तेजी आ जाएगी।

18 हजार नए किसान जुड़े 
कृषि विभाग और जिला सहकारी बैंक की ओर से सोसाइटियों में नए किसानों को जोड़ने अभियान भी चलाया गया है। ऋण माफी योजना से प्रभावित होकर कई किसान सोसाइटियों से जुड़ रहे हैं। हालांकि इस योजना के तहत सरकार ने एक बार ही किसानों को लाभ दिया। 18 हजार नए किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड जारी किया गया है। 

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए  – 

हमारे   FACEBOOK  पेज को   LIKE   करें

सिटी न्यूज़ के   Whatsapp   ग्रुप से जुड़ें

हमारे  YOUTUBE  चैनल को  subscribe  करें

Source link