उड़ान में खतरा: 2 दिन में दिल्ली से रायपुर पहुंचे 3 यात्री पॉजिटिव, एयरपोर्ट पर नहीं पकड़ पाए ‘कोरोना’

  • विभाग की तरफ से अलर्ट जारी किया गया है कि 4 जून को विस्तारा की विमान संख्या यूके-797 से दिल्ली से रायपुर आया एक यात्री कोरोना संक्रमित पाया गया है।
  • इसके पहले 7 और 10  जून को आए विमान में उड़ान भरने वाले एक-एक संक्रमित व्यक्ति पाए गए हैं।

25 june 2020,

City News – CN      City news logo

रायपुर | केंद्र सरकार ने कड़े प्रोटोकॉल के तहत विमान सेवा फिर से शुरू किया गया। एयरपोर्ट पर मेडिकल चेकअप के बाद ही यात्रियों को विमान में एंट्री मिल रही है, इसके बावजूद संक्रमित व्यक्ति अनजाने में ही सही लेकिन विमान में सफर कर रहे हैं। ये ही दूसरे यात्रियों के लिए जोखिम भरा सफर बन जा रहा है। जीं, हां, स्वास्थ्य विभाग ने दो दिन में तीसरी बार विमान से रायपुर पहुंचे यात्री में कोरोना वायरस की पुष्टि की है।

विभाग की तरफ से अलर्ट जारी किया गया है कि 4 जून को विस्तारा की विमान संख्या यूके-797 से दिल्ली से रायपुर आया एक यात्री कोरोना संक्रमित पाया गया है। इसके पहले 7 और 10 जून को आए विमान में उड़ान भरने वाले एक-एक संक्रमित व्यक्ति पाए गए हैं।

स्वास्थ्य विभाग ने अपील जारी की है कि रायपुर के अलावा किसी अन्य एयरपोर्ट पर उतरकर ट्रेन, बस या अन्य साधनों से छत्तीसगढ़ पहुंचने वाले यात्री भी क्वारंटाइन में रहें। सभी यात्री हेल्पलाइन नंबर 104 पर जानकारी दर्ज कराएं।

साथ ही जनस्वास्थ्य की सुरक्षा की दृष्टि से अंतरराज्यीय यात्रा से आए यात्रियों से पेड-क्वारंटाइन के दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन करते हुए 14 दिनों तक क्वारंटाइन में रहें। क्वारंटाइन में रहने से अन्य व्यक्तियों में संक्रमण के फैलाव को रोका जा सकता है।

लक्षण दिखाई देते हैं पांच-छह दिन बाद-

4, 7 और 10 जून को आने विमान से आने वाले व्यक्तियों में लक्षण 12 से 15 दिन बाद दिखाई दिए। सैंपलिंग में दो दिन और लग गए। रिपोर्ट आने में दो दिन और। इस दौरान न जाने वे कितनों के संपर्क में रहे होंगे। स्पष्ट है कि 80 प्रतिशत लोगों में वायरस के लक्षण दिखाई ही नहीं देते। यही बड़ी मुसीबत है।

क्वारंटाइन की मॉनिटरिंग में ढि़लाई-

सूत्रों के मुताबिक फ्लाइट से दूसरे राज्यों से आने वालों के लिए पैड क्वारंटाइन/होम क्वारंटाइन के नियम हैं। मगर, लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। नियमों का पालन करने की जिम्मेदारी स्वयं की है, तो करवाने की जिम्मेदारी स्थानीय प्रशासन की। जिसमें ढि़लाई बरती जा रही है। यही वजह है कि लोग सफर से लौटने के बाद घर में क्वारंटाइन रहने के बजाए घूमते नज़र आ रहे हैं। जो कि उन व्यक्तियों के लिए खतरा है जो इनके संपर्क में आए होंगे।

 ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए हमारे

   YOUTUBE चैनल को सब्सक्राइब करें  

           WHATSAPP   ग्रुप से जुड़ें          

 TELEGRAM चैनल को सब्सक्राइब करें

Share on :