रायपुर, राजधानी रायपुर के एक पैरामेडिकल कॉलेज में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स ने आत्मदाह की चेतावनी दी है। स्टूडेंट्स के ग्रुप ने कहा कि अगर प्रशासन हमारी कोई मदद नहीं करता है तो हम 310 छात्र कलेक्टर के दफ्तर में जाकर खुद को आग लगा लेंगे। स्टूडेंट्स ने इसके लिए दो दिनों का अल्टीमेटम जारी किया है। मामला शहर के सांईनाथ पैरामेडिकल कॉलेज की मान्यता से जुड़ा हुआ है।IMG 20220506 225957 | City News - Chhattisgarhरायपुर के प्रेस क्लब में ये स्टूडेंट्स अपनी बात रखने पहुंचे। स्टूडेंट अन्नपूर्णा खरे, ललिता साहू और डिगेश ने बताया कि हम 2019-20 के सत्र सांईनाथ पैरामेडिकल कॉलेज में पढ़ रहे हैं। 3 सालों में एक बार भी हमारी परीक्षा नहीं ली गई। शुरूआत में तो कोविड संक्रमण का बहाना किया गया। मगर हम सभी छात्रों ने जानकारी ली तो पता चला कि कॉलेज को किसी भी प्रकार का मान्यता नहीं मिली है।IMG 20220506 225957 | City News - Chhattisgarhछात्रों ने बताया कि हम इस मामले में शिकायत करने टिकरापारा थाने गए तो वहां के टीआई ने आवेदन लेने से माना कर दिया। सांईनाथ पैरामेडिकल कॉलेज देवपुरी में है। आरोप है कि कॉलेज संचालक डॉ. नरेन्द्र पांडेय ने छात्रों को धमकियां दीं। छात्रों से फीस की वसूली की गई और अलग-अलग कॉलेजों के नाम पर रसीद दी गई है। इस कांड में डॉ. नरेंद्र पांडेय के साथ राहुल त्रिवेदी, मैनेजर दिव्या टंडन, मनीष शर्मा (मीनाक्षी पैरामेडिकल कॉलेज संचालक) सब शामिल हैं।IMG 20220506 225957 | City News - Chhattisgarhअब अगर रायपुर के कलेक्टर हमें 48 घंटे के अंदर हमारी फीस की रकम लौटने में मदद नहीं देते तो हम कलेक्टर कार्यालय परिसर में जाकर आत्मदाह करेंगे क्योंकि इसके अलावा कोई भी उपाय नहीं बचा है। हमें 3-4 सालों से धोखे में रखकर हमारे भविष्य के साथ खिलवाड़ किया गया है।IMG 20220506 225957 | City News - Chhattisgarh