Stop spread corona

शहर में कोरोना के होम आइसोलेशन में रेह रहे मरीजों के साथ हो रही लापरवाही, कोई पूछने को भी नहीं।

Whatsapp button

कोरोना पॉजिटिव आने के बाद होम केयर या होम आइसोलेशन की शुरुआत प्रदेश में दुर्ग जिले से हुई। लेकिन इसका एक्जीक्यूशन जिले में वैसा नहीं हो रहा है जैसा कि बताया जा रहा था। पॉजिटिव आने के बाद आइसोलेशन में रहने वालों की देखरेख नहीं हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग का अमला भी मरीज से संपर्क में नहीं है।

मरीजों व उनके परिजनों ने सिस्टम की पोल खोल दी है। नियमों का पालन नहीं होने से सेक्टर-8 में 29 वर्षीय युवा और सेक्टर-2 में 65 से ज्यादा उम्र के वृद्ध की मौत हो गई है, फिर भी आम और खास के लिए नियमों का अलग-अलग पालन कराया जा रहा है।

यह भी पढ़े : सरकार सुधारिये भ्रष्ट अस्पतालों की व्यवस्था : बंद करावो लूट खसोट : राजधानी के हास्पिटल में कोरोना के इलाज के लिये 3 लाख रुपये की माँग : VIP ड्यूटी और अमीर – गरीब में भेदभाव बंद करो : राजधानी रायपुर में चारो तरफ मचा है – कोरोना का हाहाकार : कोरोना जांच में भी कोताही …CMHO मीरा बघेल पर FIR की दर्ज करने की मांग… !!

बीपी, शुगर के साथ-साथ 60 वर्ष के पार की उम्र वालो को भी होम आइसोलेशन में रहने की परमिशन दे दी जा रही है। यहां तक की कुछ से होम आइसोलेशन के लिए जरूरी किसी भी डॉक्टर से सहमति पत्र नहीं ले रहे।

होम आइसोलेशन के नियम क्या, उनका कितना पालन, जानिए…

नियम नंबर 1
60 से ज्यादा उम्र और गंभीर बीमारी से पीड़ित को परमिशन नहीं-यहां सबको दे दे रहे।

नियम नंबर 2
होम आइसोलेशन के लिए किसी डॉक्टर की सहमति होना जरूरी-यहां सबसे नहीं ले रहे।

नियम नंबर 3
पॉजिटिव के क्लोज संपर्क वालों को भी एचक्यू दवा देने का प्रावधान-यहां नहीं दे रहे हैं।

नियम नंबर 4
उन्हीं को परमिशन का नियम, जिनके पास सेपरेट कमरा, लैट-बाथ- इसका पालन कर रहे।

यह भी पढ़े : रायपुर के निजी अस्पताल में लुटा जा रहा कोरोना मरीजों को ; इस विधायक की पहल से मिला मुफ्त इलाज ; देखिये क्या है मामला

होम केयर के लिए गाइडलाइन तय नहीं, इसलिए मॉनीटरिंग भी नहीं…

अभी तक कोई देखने नहीं आया: मेरे 29 वर्षीय बेटे को झटके आते थे। से.-9 में भर्ती किया तो वहां हुई जांच में उसे कोरोना भी निकल गया। वहां दिमाग का डॉक्टर नहीं था। स्वास्थ्य विभाग से मुझे कोई भी सहयोग नहीं मिला। (से.-8 के मरीज के पिता)

फॅार्म तक नहीं भेजा गया: मेरे परिवार में मेरे साथ ही कुल 4 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। मैने होम आइसोलेशन के लिए संपर्क किया तो परमिशन मिल गई। करीब 6 दिन हो गए हैं। किसी को कोई परेशानी नहीं है। (मालवीय नगर, दुर्ग के मरीज ने बताया)

कोई नहीं आया: दो संक्रमित है। सरकारी सेटअप में जाने की बजाय हमने घर पर रहने की परमिशन मांगी तो वहां से डॉक्टर का सहमति पत्र मांगा गया। कोई आया नहीं है।
(सुभाष नगर के मरीज के परिजन ने बताया)

किसी ने फोन पर पूछा तक नहीं: होम आइसोलेशन में 5 दिन हो गए। कोई डॉक्टर देखने नहीं आया है। किसी ने अबतक फोन कर भी कोई जानकारी नहीं ली है।
(जैसा कि रिसाली निवासी मरीज ने बताया)

यह भी पढ़े : देर रात कोरोना का आंकड़ा 2000 पार : पहले 1916 + रात में 353 = कुल 2269 प्रदेश में और रायपुर में 1000 के करीब : फिर भी रायपुर CMHO मीरा बघेल बेफिक्र…राजधानी वासियों में आक्रोश

सिस्टम की पोल खोलते हुए मरीज बता रहे अपना दर्द…

डॉक्टर मिलना चुनौती थी: होम आइसोलेशन में रहने के लिए डॉक्टर की सहमति मिलना चुनौती थी। अब तो वहां से मिलने वाली दवाएं भी करीब-करीब खत्म सी हो गई है। (खंडेलवाल कालोनी का मरीज)

इलाज नहीं मिला: मुहल्ले में टीम आई थी इसलिए पिता का टेस्ट कराया। 3 दिन बाद तबीयत बिगड़ गई। एंबुलेंस आई थी मगर रास्ते में दम तोड़ दिया। इलाज नहीं मिला। (सेक्टर-2 के मरीज के पिता ने बताया)

रिपोर्ट भेजता हूं: दो की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। डॉक्टर को डेली सुबह शाम मैं दोनों की रिपोर्ट व्हाट‌‌सएप करता हूं। आगे को लेकर चिंतित है। (पद्मनाभपुर के मरीज के परिजन ने बताया)

कोई फोन नहीं आया: 5 दिन हो गए हैं, कोई डॉक्टर देखने नहीं आया है। किसी ने फोन भी नहीं किया। रायपुर से एक दिन फोन आया था। (जैसा कि रिसाली निवासी मरीज ने स्वयं बताया)

यह भी पढ़े : Breaking : छत्तीसगढ़ जनसंपर्क विभाग में हुआ कोरोना विस्फोट ;12 अधिकारी और कर्मचारी पाए गए संक्रमित; मुख्यमंत्री ने दिए ये निर्देश

सीधी बात
डॉ. गंभीर सिंह ठाकुर, सीएमएचओ, दुर्ग

सवाल – बिना डॉक्टर की सहमति लिए ही होम आइसोलेशन में रख दे रहे हैं, क्यों?
-होम आइसोलेशन की परमिशन देने में थोड़ी अव्यवस्था हो रही है। बुधवार से ही मैने जिम्मेदारों को टाइट किया है। डॉक्टर की सहमति लिए बगैर किसी को भी होम आइसोलेशन की परमिशन नहीं देनी है।
सवाल – कुछ डॉक्टर ड्यूटी नहीं कर रहे, पर आइसोलेशन में सहमति दे रहे?
-उन डॉक्टरों से मैं कहना चाहता हूं कि वह होम आइसोलेशन में लोगों की सेवा करें। इससे कोई परेशानी नहीं है। लेकिन कोरोना से इस युद्ध में जिला स्वास्थ्य विभाग का भी सहयोग करें तो अच्छा रहेगा।

Youtube button

   विज्ञापन  के लिए संपर्क करें – 8889075555