लखनऊ। उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर खुद को कांग्रेस का सीएम फेस बताने पर मचे सियासी घमासान के बीच प्रियंका गांधी ने एक तरह से यूटर्न ले लिया है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा  ने कहा है कि वह उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी का एकमात्र चेहरा नहीं हैं. उन्होंने कहा कि पार्टी का चेहरा होने के बारे में मीडिया से बार-बार पूछे गए सवालों के जवाब में शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मैंने थोड़ा चिढ़कर कह दिया था.

समाचार एजेंसी एएनआई के एक सवाल के जवाब में कि आपकी पार्टी आपको मुख्यमंत्री का चेहरा क्यों नहीं घोषित कर देती क्या हेजिटेशन है, प्रियंका गांधी ने कहा कि कोई हेजिटेशन नहीं है. कहीं मेरी पार्टी तय करती है और कहीं नहीं करती है. यह मेरी पार्टी के काम करने का तरीका है. इसमें कोई हेजिटेशन नहीं है. मुख्यमंत्री का उम्मीदवार कौन होगा, यह पार्टी तय करेगी और कुछ राज्यों में अब तक इसे लेकर फैसला नहीं लिया गया है. उन्होंने कहा, ‘मैं यह नहीं कह रही हूं कि मैं ही चेहरा हूं. वो तो मैंने थोड़ा चिढ़कर (हंसते हुए) कह दिया था, क्योंकि बार-बार आपलोग यही सवाल कर रहे हैं.’

मीडिया पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे कई राज्य हैं और कई प्रभारी भी हैं, चाहे वह कांग्रेस के हों या भाजपा के. क्या आप पूछते हैं कि क्या आप मुख्यमंत्री का चेहरा हैं या नहीं. आप उनसे क्यों नहीं पूछते, क्यों केवल मुझसे ही यह प्रश्न किया जाता है. बता दें कि शुक्रवार को उत्तर प्रदेश की पार्टी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा था कि वह ही उत्तर प्रदेश चुनाव में पार्टी का चेहरा हैं.

कांग्रेस पार्टी की तरफ से यूपी में मुख्यमंत्री चेहरे के सवाल पर प्रियंका गांधी ने कहा था कि आपको किसी और का चेहरा दिख रहा है क्या कांग्रेस पार्टी की तरफ से? तो फिर? अब दिख तो रहा है सब जगह मेरा चेहरा. उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान यह भी कहा कि अब तक यह फैसला नहीं हो पाया है कि वह उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव लड़ेंगी या नहीं. उन्होंने कहा कि जब फैसला हो जाएगा, मीडिया को सूचना मिल जाएगी. हमने अब तक इस बारे में कोई फैसला नहीं लिया है.