सिटी न्यूज रायपुर –

कद्दावर नेता रहे अजीत जोगी ( Ajit Jogi ) की बहू ऋचा जोगी ( Richa Jogi ) का जाति प्रमाण पत्र जिला स्तरीय छानबीन समिति ने निलंबित कर दिया है। जिला स्तरीय छानबीन समिति ने अब से कुछ देर पहले ही इस संबंध में जानकारी दी है।

“ऋचा रुपाली साधू से जाति प्रमाण पत्र के संबंध में अभिलेख और जवाब माँगा गया था, उनके द्वारा प्रस्तुत जवाब समिति को संतुष्ट नहीं करता है, इसलिए ऋचा रुपाली साधू का जाति प्रमाण पत्र निलंबित किया गया है”

आपको बता दें कि राज्य सरकार ने जाति प्रमाण पत्र के छानबीन के लिए जिला स्तर पर समिति का गठन किया है और उसे निरस्त करने का नही, जाति प्रमाण पत्र को निलंबित करने का अधिकार है। अब इस मामले की जांच उच्च स्तरीय समिति करेगी।

हालांकि मुंगेली जिला प्रशासन की इस जाति प्रमाण पत्र छानबीन समिति ने फैसला अब से कुछ देर पहले सार्वजनिक किया है, लेकिन प्रदेश में इस बात के पुष्ट संकेत थे कि अंततः जिला स्तरीय जाति प्रमाण पत्र छानबीन समिति ऋचा रुपाली साधू का जाति प्रमाण पत्र निलंबित करेगी और अभिलेखों को सौंपने के लिए जो अतिरिक्त समय मांगा गया है, वह नहीं दिया जाएगा।

श्रीमती ऋचा जोगी के जाति प्रमाण पत्र के निलम्बन पर अमित की प्रतिक्रिया-

अमित जोगी ने कहा कि श्रीमती ऋचा जोगी का प्रमाण पत्र राजनीतिक दबाव और दुर्भावना में केवल इसलिए निलम्बित किया गया क्योंकि वे स्वर्गीय श्री अजीत जोगी जी और डॉक्टर रेनु जोगी की बहु हैं और मेरे बेटे की माँ हैं। सरकार किसी भी सूरत में मेरे परिवार को चुनाव लड़ने से रोकना चाहती है।

अमित ने कहा कि 24 सितम्बर 2020 को छत्तीसगढ़ शासन द्वारा छत्तीसगढ़ अनुसूचित जाति जनजाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग अधिनियम 2013 में नियम विरुद्ध किए गए संशोधन के परिपालन में मुंगेली जिला जाति सत्यापन समिति को केवल श्रीमती ऋचा जोगी का जाति प्रमाण पत्र निलम्बित करने का अधिकार है और जब तक उनका प्रमाण पत्र पूर्ण रूप से निरस्त नहीं किया जाता है, उनके नामांकन पत्र को स्वीकार करने के अलावा निर्वाचन अधिकारी के पास कोई दूसरा वैधानिक विकल्प नहीं है।

अमित जोगी ने कहा कि इस सम्बंध में वे पहले से ही उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर चुके हैं तथा इसकी सूचना मुख्य निर्वाचन आयुक्त को भी दे चुके हैं।

सिटी न्यूज रायपुर..