रायपुर। डॉ केके ध्रुव कांग्रेस की तरफ से कांग्रेस प्रत्याशी हो सकते हैं। आज चुनाव समिति की बैठक में डॉ ध्रुव का नाम फाइनल कर लिया गया है। हालांकि इस मामले में कांग्रेस के शीर्ष नेता कुछ भी बोलने से बच रहे हैं। पार्टी नेताओं का कहना है कि पार्टी के भीतर चर्चा हुई है, लेकिन आलाकमान की तरफ से ही नामों का ऐलान किया जायेगा।

इससे पहले आज शाम प्रभारी पीएल पुनिया की अध्यक्षता में हुई चुनाव समिति की बैठक में आधा दर्जन से ज्यादा दावेदारों के नामों पर चर्चा हुई, जिसके बाद केके ध्रुव के नाम पर पार्टी में सहमति बन गयी है। डॉ ध्रुव बीएमओ के तौर पर मरवाही क्षेत्र में कार्यरत हैं। उनका इलाके में एक व्यापक प्रभाव है, हालांकि उनके उनके नामों पर पार्टी के अंदर बाहरी होने का आरोप लगाकर गतिरोध था।

यह भी पढ़े : अमित जोगी के सवाल पर कांग्रेस का जवाब- ऋचा जोगी के आवेदन में आधार कार्ड का उल्लेख नहीं, मुंगेली कलेक्टर को आकाशवाणी तो होगी नहीं

हालांकि संभावित बगावत का अहसास कर कुल अन्य तीन नामों को भी स्टैंड बाई में रखा गया है। लेकिन पार्टी सूत्र बताते हें कि सिर्फ सिंगल नाम ही आलाकमान को भेजे जायेंगे। अगर शीर्ष नेतृत्व की तरफ से पैनल मांगे जाते या फिर अन्य नामों को चर्चा के लिए उपयुक्त माना जाता हैं तो फिर उन स्टैंड बाई में से नामों को भेजा जायेगा।

आपको बता दें कि दावेदारों में डॉ केके ध्रुव के अलावे  वर्ष 2018 में विधानसभा चुनाव हारने वाले गुलाब सिंह राज, अजीत सिंह श्याम, प्रमोद परस्ते, गजमती भानू, पवन सिंह नागवंशी, प्रताप सिंह मरावी व बेचू सिंह अहिरेश के नाम शामिल थे। लेकिन इनमें से सिर्फ कुछ ही नामों पर चुनाव समिति की बैठक में चर्चा हुई।

यह भी पढ़े : सरकारी नौकरी लगवाने के नाम पर दो युवतियों सहित 10 लोगों से 31.5 लाख रुपए ठगे; भाजपा नेताओं के साथ फोटो दिखाकर दिया झांसा

मरवाही उपचुनाव से पहले जोगी कांग्रेस को तगड़ा झटका लगा है। जोगी परिवार के बेहद तीन खास लोगों ने पार्टी छोड़ने दी है। पेंड्रा से शिवनारायण तिवारी, पंकज तिवारी और बिलासपुर से समीर अहमद ‘बबला’ को सीएम भूपेश बघेल और पी एल पुनिया ने कांग्रेस प्रवेश कराया है।

कांग्रेस प्रवेश करने वाले ये तीनों ही नेता जोगी कांग्रेस के महत्वपूर्ण स्तम्भ माने जाते हैं। ऐसे में इनके पार्टी छोड़ने से मरवाही में जोगी परिवार की मुश्किलें और बढ़ सकती है।

फर्जी चिटफंड कंपनियों के उपर मेहरबानी और उचित एक्शन नही लेने को लेकर छत्तीसगढ़ नागरिक अधिकार समिति का वादा निभाओ धरना

अमित जोगी ने किया ये ट्वीट

अमित जोगी ने ट्वीट कर लिखा कि शिव नारायण तिवारी मेरे बड़े पिताजी और समीर अहमद बबला, पंकज तिवारी मेरे भाई समान हैं।

कठिन से कठिन समय में उन्होंने मेरे परिवार का साथ दिया था,वे भले ही अब मेरे दल में नहीं हैं लेकिन मेरे दिल में सदैव रहेंगे,मैं उनके उज्जवल भविष्य की कामना करता हूँ।