• City news Raipur
  • Crime news

रेवेन्यू इंटेलिजेंस डायरेक्टोरेट (DRI) की रायपुर और इंदौर टीम ने मिलकर बड़ी कार्रवाई की है। रायपुर के दो तस्करों को पकड़कर टीम ने पूछताछ की तो राजनांदगांव के मोहनी ज्वेलर्स के बारे में जानकारी मिली। टीम ने वहां छापा मारा तो विदेशों से छत्तीसगढ़ स्मगल किए हुए सोने और चांदी के बिस्किट और रॉड का बड़ा जखीरा हाथ लगा।

रायपुर DRI के एक अधिकारी ने दैनिक भास्कर को बताया कि इस कार्रवाई में रायपुर के तस्करों से 13 किलो सोना, राजनांदगांव के मोहनी ज्वैलर्स के पास से 5 टन (5000 किलो) चांदी, साढ़े चार किलो सोना और 32 लाख रुपए बरामद किए गए हैं। इस कार्रवाई में मिले सोने-चांदी की कीमत लगभग 42 करोड़ है। अभी तीन और लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

राजनीतिक हिंसा : बंगाल चुनाव के नतीजे के बाद प्रदेश में BJP कार्यकर्ताओं पर हुए हमले ; 9 लोगों की मौत ; गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट

gold-1_1620057008

​​​​​पट्‌टी खोलते ही गिरने लगे सोने के बिस्किट

DRI की तरफ से कहा गया है कि रायपुर के दो लोग कोलकाता से 13 किलो सोना लेकर कोलकाता से आ रहे थे। खुफिया इनपुट के आधार पर इन्हें पकड़ लिया गया। अफसरों ने इन दोनों की तलाशी ली तो कुछ नहीं मिला मगर तभी इनके कपड़ों के अंदर कुछ अजीब लगा। जांचने पर पता लगा कि पीठ की तरफ कपड़ों के अंदर टेप की पट्‌टी से इन्होंने कुछ लपेट रखा था।

अफसरों ने पट्‌टी खोली तो विदेशी मार्क के सोने के बिस्किट गिरने लगे। पूछताछ में इन दोनों ने राजनांदगांव के जौहरी जसराज शांति लाल बैद को सप्लाई देने की बात कबूली। टीम ने इसके बाद वहां छापा मारा।

Crime news : 2 महीनों में 30 से ज्यादा गांजा तस्कर पकड़े गए ; करोड़ो का माल जब्त ; अब सरगना तक पहुंचने जांच एजेंसियों ने बनाया प्लान

इस कार्रवाई में लगभग 5 हजार किलो चांदी भी जब्त की गई है।
इस कार्रवाई में लगभग 5 हजार किलो चांदी भी जब्त की गई है।

 

दुबई से निकलकर कोलकाता के रास्ते छत्तीसगढ़ आता है अवैध सोना

छत्तीसगढ़ के व्यापारी सरकारी विभागों की निगाह से बचाकर सोने-चांदी की स्मगलिंग करते हैं, इस बात का बड़ा सबूत ये कार्रवाई है। DRI के एक अधिकारी ने बताया कि ज्यादातर मामलों में सोने की स्मगलिंग दुबई से शुरू होती है।

वहां से गुपचुप तरीके से कारोबारी म्यांमार, बांग्लादेश, फिर भारत में नॉर्थ ईस्ट राज्यों और बंगाल से सोना या चांदी तस्करी करवाकर मंगाते हैं। इस मामले में भी कुछ ऐसा ही है। रायपुर के दो लोग हमारी हिरासत में हैं, हम उनसे पूछताछ कर रहे हैं। इस मामले में रायपुर के कुछ कारोबारियों के भी शामिल होने की खबर है। तीन लोग राजनांदगांव से भी हिरासत में हैं।

कोरोना संक्रमण का असर : गर्मी छुट्टी के बाद भी होगी ऑनलाइन पढ़ाई : जुलाई तक नहीं खुलेंगे सरकारी और निजी स्कूलें…

राजनांदगांव में दो दिन तक चली रेड

राजनांदगांव से मिली जानकारी के अनुसार, केन्द्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क की टीम भी छापे में शामिल थी। 1 मई को दोपहर करीब 12 बजे के आसपास जसराज शांतिलाल बैद के नंदई स्थित मकान में छापेमारी की गई, जो रविवार देर रात तक चली है।

केन्द्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क के अधिकारी तीन गाड़ियों से सवार होकर ज्वेलर्स के मकान में पहुंचे और जांच पड़ताल शुरू कर दी। इस दौरान किसी को न भीतर जाने दिया गया और न ही किसी को बाहर जाने की अनुमति थी। इस टीम ने लगातार दो दिनों तक अपनी कार्रवाई की है।