• City News 
  • Bollywood News

नई दिल्ली। बॉलीवुड की मशहूर फिल्म शोले में जय और वीरू ने आग लगी थी. अमिताभ बच्चन (जय) और धर्मेंद्र (वीरू) ने अपने एक्टिंग से करोड़ों लोगों के दिल में राज कर लिया था. फिल्म में जब ठाकुर और गब्बर के बीच जोर दार फाइट हुई।

इस दौरान ठाकुर के हाथ दिख गए थे, जो गौर करने वाली बात थी. अब ये सीन एक बार फिर सोशल मीडिया खूब देखी जा रही है. बॉलीवुड की मशहूर फिल्म ‘शोले’ को आज भी लोग खूब पसंद कर रहे हैं।

फिल्म में धर्मेंद्र और अमिताभ बच्चन ने जय-वीरू का रोल निभाया था. जबकि संजीव कुमार ने ठाकुर का रोल निभाया था. कई फिल्मों की तरह इस फिल्म में भी मेकर्स से कुछ कमियां छूट गई थीं. इनमें से एक प्रमुख है ठाकुर और गब्बर सिंह के बीच फाइट सीन में ठाकुर का हाथ दिख जाता है।

Gold Price Update : सोने के भाव में आई तेजी तो चांदी के दाम में आई गिरावट

यूट्यूब और अन्य सोशल मीडिया पर मौजूद है वीडियो

ठाकुर और गब्बर सिंह के बीच फाइट का यह सीन यूट्यूब और अन्य सोशल मीडिया पर मौजूद है. इस सीन को लोग खूब देख रहे हैं. फिल्म में गब्बर सिंह रिटायर्ड पुलिस अफसर ठाकुर बलदेव सिंह का दोनों हाथ काट देता है।

बाद में जय-वीरू की मदद से ठाकुर गब्बर से बदला लेता है. बिना हाथों के फाइट करता है. इसी सीन में उसका हाथ कुर्ते के नीचे दिख जाता है. दर्शकों ने गौर नहीं किया, लेकिन इस सीन को लेकर खूब देख रहे हैं।

इन लोगों ने अहम किरदारों से समां बांधा

बता दें कि फिल्म ‘शोले’ 1975 में बनी थी. फिल्म शोले में गब्बर सिंह का रोल अमजद खान ने किया था. इस फिल्म को सलीम-जावेद की जोड़ी ने लिखा था. गोपाल दास सिप्पी ने अपने बेटे रमेश सिप्पी के साथ निर्देशन किया था।

नितिन गडकरी का ऐलान, सालभर में हट जाएंगे सभी टोल बूथ, GPS आधारित टोल संग्रह कर दिया जाएगा लागू

फिल्म में हेमा मालिनी, जया बच्चन, अशरानी, जगदीप ने भी अहम किरदारों से समां बांधा था. इस फिल्म के डायलॉग्स कई मौकों पर बोले जाते हैं. फिल्म का म्यूजिक भी खूब हिट हुआ था।

कुछ इस तरह थी कहानी

रामगढ़ नामक एक छोटे से गाँव में सेवानिवृत पुलिस अधिकारी ठाकुर बलदेव सिंह (संजीव कुमार) दो चोरों को बुलाता है, जिन्हें उसने एक बार गिरफ्तार किया था।

रायपुर में कांग्रेस नेता के बेटे से लाखों की धोखाधड़ी, आरोपियों की तलाश जारी

ठाकुर को यकीन है कि वे दोनों – जय (अमिताभ बच्चन) और वीरू (धर्मेन्द्र) – कुख्यात डकैत गब्बर सिंह (अमजद ख़ान) को पकड़ने में उसकी सहायता कर सकते हैं।

गब्बर सिंह को जीवित या मृत पुलिस के हवाले करने पर 50 हजार रुपये का नगद इनाम तो था ही, साथ ही ठाकुर ने उन दोनों को गब्बर को जीवित पकड़कर उसके पास लाने पर बीस हज़ार रुपये के अतिरिक्त इनाम की पेशकश भी की।

देखें वीडियो….