city news wishes for ram mandir

बीरगांव निगम प्रशासन की लापरवाही का नतीजा – भुगत रही है बीरगांव की जनता…

12

सिटी न्यूज  CN

बीरगांव नगर निगम प्रशासन की लापरवाही का नतीजा / जब पूरा देश लॉकडाउन था, तब बिरगांव था लगभग अनलॉक , सोशल डिसटेंस की उडाई गई थीं धज्जियां,  फैक्टरी में काम करने वाले मजदूरों को प्रवासी मजदूरों से नहीं रखा गया था दूर,  नही की गई थी कडाई , आने – जाने वालों का कोई हिसाब भी नही रखा गया, धडल्ले से खोली गई शराब की दुकानें ,  अब जब पूरा देश खुलने लगा है तब बीरगांव को टोटल लॉकडाउन करना पड़ रहा है और  इलाका को पुरा सील कर दिया गया है, गौरतलब है कि इन्ही लापरवाही के कारण छत्तीसगढ़ में सबसे पहली मौत बीरगांव में ही हुवा है !!

  • दोपहर बाद मुख्य सड़कों के साथ-साथ भीतरी इलाकों की सड़कों पर भी सन्नाटा छा गया। तस्वीर बिरगांव की।
  • ( सील किया गया मुख्य मार्ग,  मुख्य सड़कों के साथ-साथ भीतरी इलाकों की सड़कों पर भी सन्नाटा छा गया। तस्वीर बिरगांव मेटलपार्क की।)

रायपुर – बीरगांव . देश में लॉकडाउन-1 में कर्फ्यू जैसी सख्ती थी, लेकिन बिरगांव-उरला इलाके से लाॅकडाउन के उल्लंघन की लगातार खबरें आती रहीं, वहींं शराब की दुकानें तो खुल्लमखुल्ला चलीं।  लेकिन अब हालात बदले हैं। बिरगांव और आसपास एक-एक कर लगातार 7 कोरोना संक्रमित मिलने से हालात बेकाबू हो गए हैं। राजधानी में सुबह से शाम तक पूरा बाजार खुल रहा है, लेकिन बिरगांव अब जाकर पूरी तरह लाॅक हो गया है। सभी सड़कें बेरिकेड्स लगाकर सील कर दी गईं, लेकिन इसके भीतर उल्लंघन अब भी कम नहीं हुआ है।


बिरगांव में शुक्रवार को सुबह से रात तक 80 से ज्यादा छोटी गलियों और मुख्य सड़कों को बेरिकेड्स लगाकर पूरी तरह सील कर दिया गया है। इमरजेंसी में भीतर आने और बाहर जाने के लिए दो रास्ते खुले छोड़े गए हैं। अर्थात, यहां के लगभग 40 हजार लोग अगले 14 दिन तक अपने घरों में बंद रहेंगे, आना-जाना नहीं होगा। । खमतराई और उरला थाने के बल के अलावा पुलिस लाइन से अतिरिक्त बल मंगवाकर तैनात कर दिया गया है। हालात को ध्यान में रखते हुए आला अफसरों ने खुद लॉकडाउन की मॉनीटरिंग का फैसला कर लिया है। शुक्रवार रात से सख्ती भी शुरू कर दी गई।

सुबह 9 से दोपहर 3 तक खुलेंगी राशन दुकानें, घर पहुंचेगी सब्जी

शनिवार से बिरगांव के लॉकडाउन वाले इलाके में कुछ किराना दुकानों को शर्त के साथ खोलने की अनुमति दी जाएगी। दुकानें सुबह 9 से दोपहर तक खुलेगी। सब्जी और दूध घर पहुंचाया जाएगा। इसके लिए प्रशासन की ओर से व्यवस्था की जाएगी। गाड़ियों और ठेलों में सब्जी वाले दिनभर में दो-तीन बार गुजरेंगे और लाउड स्पीकर पर अनाउंसमेंट किया जाएगा। जरूरतमंद घर के बाहर आकर सब्जी खरीद सकेंगे। दूध भी घर पहुंचेगा। किसी को इसके लिए बाहर जाने की अनुमति नहीं मिलेगी।

व्यास तालाब और उरला सरोरा रोड भी सील …
बिरगांव-उरला में प्रवेश के लिए व्यास तालाब से भीतर जाने वाली सड़क को भी पुुुुरी तरह सील कर दिया गया है । उरला स्थित कारखानों तक जाने वाले वाहन और कर्मचारी इसी रास्ते से प्रवेश करते थे । अगले 14 दिन के लिए इन रास्तों के अलावा सभी सड़कों को बंद कर दिया गया है।

फैक्ट्रियों को नोटिस, कर्मियों को लाॅकडाउन तक वहीं रखें
कंटनेंमेंट जोन के दायरे में आ रही किसी भी फैक्ट्री को बंद नहीं कराया गया है, लेकिन फैक्ट्री वालों से कहा गया है कि वे किसी भी वर्कर और मजदूर को घर न भेजें। फैक्ट्री के भीतर ही उन्हें रखने की व्यवस्था की जाए। बाहर से माल लेकर आने वाले वाहनों के ड्राइवरों को भी फैक्ट्री में क्वारेंटाइन जैसी स्थिति में रखने को कहा गया है। फैक्ट्री संचालकों को निर्देश दिए गए हैं कि वे उन्हें कमरे में रखकर भोजन और बाकी सुविधाएं उपलब्ध करवाएं। वाहनों में माल लोड होने के बाद सीधे रवाना कर दें।

ये इलाके पुलिस के घेरे में
बिरगांव उरला के गाजीनगर, दुर्गानगर, शहीदनगर, कैलाशनगर, शुक्रवारी बाजार, मेटल पार्क, बंजारीनगर और जौहर नगर का इलाका पूरी तरह से सील कर दिया गया है। फैक्ट्रियों और ट्रांसपोर्टनगर के कुछ हिस्सों को छोड़ा गया है। बाकी इलाकों में आने वाले हर छोटे बड़े रास्ते बंद कर दिए गए हैं। हर छोटे छोटे मोहल्ले और बस्ती में वहीं के नागरिकों को निगरानी में लगाया गया है।

Leave a comment ...