मां कुदरगढ़ी कंपनी सरोरा के कैशियर नित्यानंद छुरा उर्फ अमित के ऊपर शनिवार को दिनदहाड़े जानलेवा हमला कर 32 लाख रुपये लूट की वारदात को पूरी योजना बनाकर अंजाम दिया गया। कैशियर के आने-जाने के रास्ते से लुटेरे अच्छी तरह से वाकिफ थे और पहले से सरोरा के कच्चे रास्ते पर घात लगाकर कैशियर के आने का इंतजार कर रहे थे।

कैशियर के आते ही तीन बाइक में सवार सात नकाबपोश लुटेरों ने घेरकर स्टील पाइप से ताबड़तोड़ हमला किया। हमले के दौरान रास्ते से कई फैक्ट्री कर्मी गुजरे, लेकिन किसी की लुटेरों से भिड़ने की हिम्मत नहीं हुई। जब तक पुलिस पहुंचती, लुटेरे पैसे लेकर भाग चुके थे। नाकाबंदी भी काम न आई। अब पुलिस सीसीटीवी फुटेज से मिले क्लू के आधार पर लुटेरों तक पहुंचने की कोशिश कर रही है। पुलिस अफसरों का कहना है कि जिस दुस्साहसिक तरीके से लूट की घटना को अंजाम दिया गया है, उससे साफ है कि यह काम आदतन बदमाशों का है। लुटेरे लोकल के साथ बाहरी हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें – सड़क हादसा : राजधानी के पास एलपीजी गैस टैंकर और ट्रक में जबरदस्त भिड़ंत ; पांच घंटे कड़ी मशक्कत के बाद गंभीर हालत में फंसे ड्राइवर को निकाला गया

पिटते देख भागा सहकर्मी

दिनदहाड़े कैशियर पर जानलेवा हमला कर 31 लाख रुपये लूट की घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर एएसपी ग्रामीण तारकेश्वर पटेल दल-बल के साथ पहुंचे। कैशियर नित्यानंद ने पुलिस को बताया कि हमले के दौरान उसी रास्ते से फैक्ट्री जा रहे सहकर्मी दीपक सिंह ने लुटेरों को देखा था, लेकिन डरकर वह कंपनी की तरफ भाग गया। घटना को पास की झोपड़ी वाले ने भी देखा है।

दफ्तर से लिए थे पैसे

कैशियर नित्यानंद छुरा का घर देवेंद्र नगर, त्रिमूर्ति नगर के अलावा गोंदवारा स्थित बंसत विहार कालोनी गुढ़ियारी में भी है। फैक्ट्री का दफ्तर फाफाडीह स्थित वालफोर्ड ओजोन बिल्िडग में है। शुक्रवार रात आठ बजे इसी दफ्तर से करीब 20 लाख रुपये लेकर अपने घर चला गया था, जबकि घर में पहले से फैक्ट्री के कलेक्शन के 11 लाख रुपये रखे थे। दोनों रकम को घर से पौने दस बजे लेकर वह फैक्ट्री में मजदूरों के कांट्रेक्टर, ट्रकों का किराया भुगतान करने जा रहा था, तभी रास्ते में लूट की वारदात हो गई।

यह भी पढ़ें – बड़ी खबर : सरकारी स्कूलों को इंग्लिश मीडियम करने के खिलाफ हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर ; 21 जनवरी को होगी सुनवाई

पहले से थी लुटेरों को जानकारी

जिस तरह से घटना को अंजाम दिया गया, उसे देखकर लगता है कि लुटेरों ने पूरी योजना के बाद लूट की घटना को अंजाम दिया गया है। बाइक सवार सात बदमाशों ने कैशियर को चारों तरफ से घेरकर रोक लिया। सभी बदमाशों ने अपना चेहरा गमछे से ढंक रखा था। नित्यानंद पर जानलेवा हमला कर लुटेरे रुपयों से भरा बैग छीनकर भाग निकले। पुलिस का दावा है कि लुटेरों को पहले से कैशियर को बड़ी रकम के साथ आने-जाने के रास्ते की जानकारी थी। घात लगाकर वे इसका इंतजार कर रहे होंगे और लूट की वारदात को अंजाम दिया। प्रमुख रास्तों पर पुलिस ने चेकिंग बढ़ा दी है।

कैमरे में कैद हुए लुटेरे

घटना स्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों को पुलिस ने खंगाला तो चार-पांच बाइक सवार भागते हुए कैद हुए हैं। फुटेज की जांच पुलिस कर रही है। इसके आधार पर आसपास के छह से अधिक पुराने बदमाशों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

यह भी पढ़ें – बडी खबर : छत्तीसगढ महतारी और अजीत जोगी की मूर्ति लगाने “छत्तीसगढिया” हुवे एकजुट ; कहा – जान दे देगें लेकिन पीछे नही हटेगें ;  17 जनवरी को बीरगांव में हो सकती है आर – पार की लडाई…!!