• City news
  • Raipur 

Whatsapp button

सिटी न्यूज रायपुर – शहर में निर्माण कार्यों में 60 फीसद मजदूर अन्य प्रदेशों के काम करते थे। जो कोरोना संक्रमण काल में अपने-अपने गृह जिले जा चुके हैं। अब स्थानीय मजदूरों के भरोसे ही निर्माण कार्य किए जा रहे हैं। लिहाजा, दिहाड़ी में इजाफा हुआ है।

रायपुर। करीब तीन माह से बंद पड़े निर्माण कार्यों ने रफ्तार तो पकड़ ली है, लेकिन अब महंगाई की मार से प्रोजेक्ट प्रभावित हो रहे हैं। रेत की कालाबाजारी से रियल एस्टेट प्रोजेक्ट से लेकर सरकारी निर्माण कार्यों की लागत बढ़ रही है। रेत खनन में रोक लगने से पहले माफियाओं ने अवैध रूप से रेत का स्टॉक कर लिया था। अब उसी रेत को तीन से चार गुना दाम पर बाजार में बेचा जा रहा है।

रियल एस्टेट सेक्टर के प्रोजेक्ट में 15 से 20 प्रतिशत तक दाम में इजाफा हो सकता है। लॉकडाउन के बाद बढ़े हुए रेत के दाम निर्माण एजेंसियों व कंपनियों के लिए चिंता का विषय बन गया है। तीन माह पहले की तुलना में रेत ढाई गुना महंगी हो गई है।

यह भी पढ़ें – खमतराई में लूट की घटना निकली फर्जी, खुद मुंशी ने रचा था चोरी होने की घटना ; देखिये क्या था प्लान

सीमेंट के कीमत में 50 से 70 रुपये का उछाल आया है। लोहे का दाम भी बढ़ गया है। लॉकडाउन के पहले 38 रुपये प्रति किलो में बिकने वाला लोहा अब 48 रुपये प्रति किलो में बिक रहा है। इस कारण वर्तमान में घर बनाना महंगा हो गया है।

वहीं विपक्ष के एक दिग्गज नेता ने इसेे मुददा बनाते हुवे कहा कि कोरोना और लाकडाउन में बर्बाद व्यक्ति जैसे तैसे अपना मकान बनाने का सपना पुरा करने की कोशिश में जुटा है वहां भी सरकार की नाकामी और मिलीभगत के कारण मकान बनाना बहुत ही मुश्किल हो गया है,  रेती का दाम ढाई गुना बढ गया है, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इसे रोकने कोई ठोस कदम इसलिए नही उठा रहे हैं क्योंकि पंद्रह साल बाद सत्ता में बैठे भूखे नंगो को भ्रष्टाचार की छूट देकर आम आदमी से लूट करवा रहा है ,यह सरकार सभी क्षेत्रों में फेल साबित हो रहा है  !!

मजदूर नहीं मिल रहे, दिहाड़ी भी बढ़ी

कई निर्माण कार्य भले ही शुरू हो गए हैं, लेकिन पर्याप्त संख्या में मजदूर नहीं मिल पा रहे हैं। जो मजदूर 300 रुपये में रोजाना काम करते थे, अब इनकी दिहाड़ी 200 रुपये की बढ़ोतरी के साथ 500 रुपये हो गई है। दरअसल, शहर में निर्माण कार्यों में 60 फीसद मजदूर अन्य प्रदेशों के काम करते थे। जो कोरोना संक्रमण काल में अपने-अपने गृह जिले जा चुके हैं। अब स्थानीय मजदूरों के भरोसे ही निर्माण कार्य किए जा रहे हैं। लिहाजा, दिहाड़ी में इजाफा हुआ है।

यह भी पढ़ें – Breaking : निगम-मंडलों में नियुक्ति को लेकर कांग्रेस में मंथन…जातिय-क्षेत्रीय समीकरण में उलझी सूची

15 से 20 प्रतिशत तक महंगे मिलेंगे आवास

आने वाले समय में आवास खरीदने में लोगों को 15 से 20 प्रतिशत तक अधिक राशि खर्च करनी पड़ेगी। महंगाई को देखते हुए रियल एस्टेट प्रोजेक्ट में दामों में बढ़ोतरी के संकेत मिल रहे है। शहर में टू बीएचके की कीमत औसतन 20 से 23 लाख रुपये है। यदि 20 लाख रुपये के हिसाब से कीमत मानी जाए तो तीन लाख रुपये अतिरिक्त भार पड़ेगा। इससे रियल एस्टेट सेक्टर के व्यापार में मंदी की स्थिति बनेगी।

वर्तमान स्थिति के आधार पर तय हो दाम

पुराने प्रोजेक्ट के अनुबंध हो चुके हैं, इन्हें पूरा करना कांट्रेक्टर की मजबूरी है, लेकिन नए कामों के लिए वर्तमान स्थिति के आधार पर एसओआर (शेड्यूल ऑफ रेट्स) तय किया जाना जरूरी है। वर्तमान में नगर निगम 2012 के एसओआर पर काम कराता है। यदि पुराने एसओआर की दरों पर ही टेंडर हुए तो ठेकेदार घाटे के कारण इसमें भाग ही नहीं ले पाएंगे।

Whatsapp button

Youtube button

यह भी पढ़ें – बड़ी खबर : रैपर बादशाह से 10 घंटे तक पूछताछ चलने के बाद , बादशाह ने 72 लाख में करोड़ों फर्जी व्यूज़ खरीदने की बात स्वीकारी : मुंबई पुलिस