Sunday, January 24, 2021
Home Birgaon news

बडी खबर – बीरगांव निगम के नेताप्रतिपक्ष भीखम देवांगन ने रायपुर ग्रामीण कांग्रेस विधायक और विधायक पुत्र पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप – कांग्रेस पार्टी और नेता प्रतिपक्ष पद से दिया इस्तीफा…!!

बिरगांव कांग्रेस को आज एक बड़ा झटका लगा है,  रायपुर ग्रामीण विधानसभा के कांग्रेस पार्टी के विधायक सत्यनारायण शर्मा के पुत्रों की कार्यशैली एवं वादाखिलाफी से नाराज बिरगांव नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष भीखम देवांगन ने आज कांग्रेस पार्टी और नेताप्रतिपक्ष पद से इस्तीफा दे दिया  !!

बिरगांव नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष एवं कांग्रेस पार्टी के पार्षद भीखम देवांगन ने अपनी पीडा व्यक्त करके हुवे सिटी न्यूज को बताया कि राज्य में कांग्रेस पार्टी की सरकार होने के बावजूद व रायपुर ग्रामीण विधानसभा में भी कांग्रेस पार्टी का विधायक होने के बावजूद बीरगांव में कांग्रेस पार्टी के पार्षदों का बहुत  बुरा हाल है, जब नेताप्रतिपक्ष और कांग्रेस पार्षद की कहीं- कोई सुनवाई नहीं होती तो आमजनता की कितनी सुनवाई होती होगी यह अंदाजा लगाया जा सकता है, साफ सफाई से लेकर छोटे छोटे कामों के लिये दर दर भटकना पडता है, सारे विकास कार्य ठप्प पडे है, कुछ भी काम नही होने एवम् हमारी सरकार में होने के बावजूद कांग्रेस पार्टी विधायक होने के बावजूद पुरे बीरगांव निगम क्षेत्र में जगह जगह खुले आम धडल्ले से दादागिरी के साथ गांजा एवम् अवैध शराब की बिक्री हो रही है जिसकी शिकायत कई बार मेरे द्वारा स्वयं विधायक और थाना में किया गया लेकिन कोई कार्यवाही विधायक द्वारा नहीं करवाई जाती उनके पुत्र तो हमारे उपर भडक जाते है, नेताओं के संरक्षण में सब कुछ हो रहा है , कार्यवाही नही होने से वार्ड की जनता कांग्रेस पार्षदों से नाराज होते जा रहे हैं तथा पार्षदों को वार्ड की जनता का आक्रोश भी झेलना पड़ रहा है। 

भीखम देवांगन ने सिटी न्यूज से कहा कि विधायक पुत्र और बिरगांव ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के भी चिडचिडापन, स्वार्थीपन, भेदभाव एवं मनमानी पूर्ण रवैया के कारण कांग्रेस पार्टी के सभी पार्षद उनसे नाराज है सर्वप्रथम कांग्रेस पार्टी से और नेताप्रतिपक्ष से मै इस्तीफा दे रहा हूं इसके बाद कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा देने वाले पार्षदों की लाइन लग जाएगी, टिकट के लालच में कोई कुछ खुलकर नही बोल रहा है, लेकिन यह तय है कि कांग्रेस पार्टी की राज्य में सरकार है , कांग्रेस पार्टी का वरिष्ठ विधायक है फिर भी जब जनता का काम नही हो रहा है, विकास कार्य के लिये राशी नही है, एक भी वादा निभा नही पाये, मजदूर भाईयों का शोषण हो रहा है। 

यह भी पढ़ें – Big Breaking : कांग्रेस पार्टी को बडा झटका – बीरगांव निगम के नेता प्रतिपक्ष भीखम देवांगन ने कांग्रेस पार्टी से दिया इस्तीफा…

कोरोनाकाल में मनमाना टैक्स ले रहे है, निगम में बिना पैसे कोई काम नही होता, भ्रष्टाचार सीमा लांघ रही है, बेरोजगार युवक नौकरी के लिये भटक रहे है, विधायक ने बीरगांव के एक भी नौवजान को सरकारी नौकरी तो दूर प्राइवेट फैक्टरी में भी नौकरी नही दिला पाते, छत्तीसगढियों का शोषण करने में रायपुर ग्रामीण का कांग्रेस विधायक फर्स्ट है, सडक नाली पानी बिजली शिक्षा और स्वास्थय में सबसे पिछडा है, खेल मैदान, जिम और गार्डन बनाना तो दूर बीरगांव के एकमात्र गांधी उधान जो पालिका के समय का है वह उधान भी देखरेख के अभाव में अतयंत जर्जर हो चुका है, निस्तारी तालाब और शमशानघाट के सुंदरता के लिये विधायक ने कोई प्रयास नही किया, बीरगांव निगम के सभी पार्षद वार्ड में विकास कार्य के लिये तरस रहे है, कांग्रेस के नेता अवैध प्लाटिंग और  गांजा तथा अवैध शराब बिक्री में संलिप्त है,  कांग्रेस पार्टी का बीरगांव से इस बार सफाया हो जायेगा। 

भीखम देवांगन ने कहा कि क्षेत्रीय विधायक सत्यनारायण शर्मा द्वारा चुनाव के समय मेरे वार्ड की जनता  से वायदा किया था कि चुनाव जीतने के तुरंत बाद कांग्रेस की सरकार बनते ही हम सभी को पट्टा देंगे लेकिन सरकार बने 2 साल होने जा रहा है मेरे वार्ड की जनता के साथ  लगातार मांग के बावजूद बिरगांव नगर निगम क्षेत्र के किसी भी परिवार को पट्टा नहीं दिया गया विधायक के पुत्रों के द्वारा पार्षदों की बातों को टालमटोल कर दिया जाता है, कुछ छुटभैय्ये नेताओं को छोडकर किसी भी पार्षदों को महत्व नहीं मिलता , अनसुना कर दिया जाता है। 

छोटे से छोटे काम के लिए विधायक जी अपने पुत्रों से बात करने के लिए कहते हैं और उनके पुत्र तो महान है , बोलबच्चन है,  एक भी काम नहीं करवाते , प्रदेश में कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद बीरगांव नगर निगम में कांग्रेस पार्टी की सभापति होने के बावजूद बिरगांव नगर निगम के कोई भी अधिकारी किसी भी कांग्रेसी पार्षद की बातों को मानना तो दूर सुनने को तैयार नहीं रहते , हर काम के लिये विधायक का फोन आना चाहिये,  नगर निगम के ठेकेदार केवल विधायक पुत्रों के हिसाब से काम करते हैं , ठेका भी विधायक के बंगले से तय होता है,  यही कारण है कि सफाई ठेकेदार से लेकर सड़क – नाली निर्माण करने वाले कोई भी ठेकेदार किसी भी पार्षद की बात मानने से सीधे इंकार कर देता है। 

इन सब कारणों से कांग्रेस पार्टी के सभी पार्षद विधायक पुत्र से नाराज और आक्रोशित है,  कांग्रेस के पार्षद साथियों से मेरी चर्चा हमेशा होती रहती है,  लगभग अधिकांश पार्षद – विधायक पुत्रों के एवं बिरगांव ब्लॉक के अध्यक्ष के व्यवहार और कार्यशैली से नाराज है, बीरगांव की जनता तो अब विधायक को चुनकर पछता रहे है,  वार्ड एवं बीरगांव क्षेत्र की जनता हम कांग्रेसी पार्षदों से सवाल करती है कि विधायक ने चुनाव के पहले जो वायदे किए थे वह कब पूरा करेंगे चाहे वह पट्टा देने का मामला हो, चाहे वह चिटफंड का पैसा वापस करने का मामला हो, चाहे वह निराश्रित पेंशन ₹300 से बढ़ाकर ₹1500 रुपये करने की वायदा हो,  चाहे शिक्षित बेरोजगारों को ₹2500रू भत्ता हर महीने देने की बात हो , चाहे गरीब मजदूर श्रमिक भाइयों को उनके हक उनके अधिकार दिलाने की बात हो , चाहे पूर्ण शराबबंदी की बात हो, चाहे शराब दुकान को स्थानांतरित करने की बात हो, चाहे सडक नाली तालाब,  मुक्तिधाम, खैलमैदान, सौंदर्यीकरन या विकास की बात हो,  किसी भी बात में विधायकजी  रुचि नहीं लेते और जिसका खामियाजा हम पार्षदों को भुगतना पड़ रहा है , इन सब बातों से व्यथित होकर मैं कांग्रेस पार्टी के प्राथमिक सदस्यता और नेताप्रतिपक्ष पद से आज दोपहर इस्तीफा दे दिया  हूं  !!

सिटी न्यूज रायपुर –  बीरगांव