रायपुर, छत्तीसगढ़ से बड़ी खबर आ रही है. यहां के कांग्रेस विधायक बृहस्पति सिंह ने अपनी ही सरकार के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव पर बड़ा आरोप लगाया है. बृहस्पति सिंह के ऊपर अंबिकापुर में हमले के बाद उन्होंने यह आरोप लगाया है. सिंह ने कहा है कि टीएस सिंहदेव मेरी हत्या कर राज्य के मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं. इसलिए यह हमला किया गया है. बृहस्पति सिंह ने कहा कि मेरे जैसे कुछ विधायकों की कभी भी हत्या हो सकती है. उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मांग की है कि टीएस सिंहदेव को तत्काल मंत्रिमंडल से हटाया जाए. बृहस्पति सिंह ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी को भी इस बाबत पत्र लिखा है.

सिंहदेव सरजुगा में हिटलरशाही चलाते हैं.

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता टीएस सिंहदेव पर हत्या का आरोप लगाने वाले कांग्रेस विधायक बृहस्पति सिंह यहीं नहीं रुके. उन्होंने आरोप लगाया कि सिंहदेव सरजुगा में हिटलरशाही चलाते हैं. बृहस्पति ने कहा कि वे विधायक दल की बैठक में जा रहे हैं। प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया से अनुरोध करेंगे कि जो मंत्री सरकार की छवि खराब कर रहे हैं, उन्हें बाहर का रास्ता दिखाएं। गुंडागर्दी करने वाले विधायक और मंत्री पर कार्रवाई हो। मैं आदिवासी विधायक हूं। मेरा भी मान-सम्मान है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से भी इसकी शिकायत करेंगे। विधायक दल की बैठक में भी अपनी बात रखेंगे। प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पुनिया, विधानसभा अध्यक्ष डा. चरणदास महंत, विधानसभा उपाध्यक्ष मनोज मंडावी से भी शिकायत करेंगे। सिंह के इस आरोप के बाद उनके घर पर बड़ी संख्या में कांग्रेस पार्टी के विधायक जुट गए हैं. करीब दो दर्जन विधायक उनका कुशलक्षेम जानने के लिए पहुंच गए हैं. आपको बता दें कि कल रात अंबिकापुर में विधायक बृहस्पति सिंह के ऊपर हमला हुआ था, जिसके बाद से प्रदेश की राजनीति में उबाल देखने को मिल रहा है.

विधानसभा अध्यक्ष मनोज मंडावी भी पहुंचे बृहस्पति सिंह के घर

इधर, विधायक दल की बैठक से पहले अम्बिकापुर में हुए हमले को लेकर बृहस्पति सिंह के घर पर विधानसभा अध्यक्ष मनोज मंडावी भी पहुंच गए हैं. गौरतलब है कि आज ही राजधानी रायपुर में कांग्रेस की प्रदेश कार्यकारिणी की बड़ी बैठक शुरू हुई है. राजीव भवन में हुई इस बैठक में पीएल पूनिया, पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम, प्रभारी सचिव चंदन यादव, सप्तगिरि उल्का और मंत्री शिव डहरिया भी शामिल हुए. इस  बैठक में संगठन के आगामी कार्यक्रमों की रूपरेखा पर चर्चा हुई. दिन में हुई बैठक के बाद देर शाम कांग्रेस विधायक बृहस्पति सिंह के बड़े हमले से प्रदेश की सियासत में भूचाल आ गया है. !!