• City News Chhattisgarh 
  • Education news 

छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा शनिवार से पूरक परीक्षा का आयोजन किया गया। छात्र पूरक की परीक्षा देने अपने-अपने स्कूल पहुंचे। छात्रों को सेंटर में प्रश्न पत्र से पहले सैनिटाइजर दिया गया। सभी को मास्क लगाने के बाद ही परीक्षा हाल में अंदर आने की अनुमति दी गई। जिले में 124 परीक्षा केंद्रों में परीक्षा हो रही है।

हर कमरे में सिर्फ 10 छात्रों को ही बैठने की अनुमति है। कोविड को ध्यान में रखते हुए छात्रों के लिए स्कूल के सैनिटाइज किया गया है। वहीं क्लास रूम में साफ-सफाई की कमी जरूर नजर आई। वहीं रोल नंबर और कमरे खोजने में छात्रों को मशक्कत भी करनी पड़ी। पहले दिन कम संख्या होने की वजह से किसी तरह की अव्यवस्था नहीं दिखी।

अटल बिहारी वाजपेयी यूनिवर्सिटी को मिली मान्यता ; एमसीए में बी.ए और बी.काॅम के छात्रों को भी मिलेगा प्रवेश ; देखें पूरी खबर

बताया जा रहा है कि सबसे ज्यादा गणित और विज्ञान में बच्चों को पूरक मिले हैं। भीड़ उसी दिन ज्यादा होगी। इसे लेकर विभाग तैयारी में जुटा है। बच्चों की बैठक व्यवस्था में सोशल डिस्टेंसिंग समेत कोविड-19 से बचाव के तमाम नियमों का पालन किया जा रहा है।

हर स्कूल को बनाया सेंटर, ताकि न हो भीड़

माध्यमिक शिक्षा मंडल ने छात्रों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इस बार परीक्षा केंद्र न बनाकर स्कूलों को ही परीक्षा कराने की जिम्मेदारी सौंपी है। जो छात्र जिस स्कूल में पढ़ाई करता है उसे वहीं जाकर परीक्षा देनी होगी। ऐसे में हर स्कूल में छात्रों की संख्या 20 से 25 की होगी। एक या दो कमरों में परीक्षा का आयोजन कराया जा सकता है। इसलिए परीक्षा में भीड़ नहीं हो रही है।

दूल्हे घोड़ी जरूर चढ़ेंगे पर बारात निकालने पर सरकार ले लगाई रोक ; देखिये नई गाइडलाइन्स….