छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी, नरवा-गरवा, घुरवा अउ बाड़ी” एला बचाना हे संगवारी , कइसे बाचही जब जम्मो भुंइया बेचा जाही सरकारी…?

क्या है नरवा, गरवा, घुरवा बाड़ी योजना ?
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश की सत्ता संभालते ही नारा दिया -” छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी नरवा-गरवा, घुरवा अउ बाड़ी” एला बचाना हे संगवारी (छत्तीसगढ़ की पहचान के लिए चार चिन्ह हैं, नरवा (नाला), गरवा (पशु एवं गोठान), घुरवा (उर्वरक) एवं बाड़ी (बगीचा), इनका संरक्षण आवश्यक है।

लेकिन दूसरी ओर राज्य सरकार द्वारा  गांव और शहर के सभी सरकारी जमीनों को बेचने का आदेश कर दी  है, गांव गांव में सभी भाठा जमीनों को लोग खरीदने अलग अलग  आवेदन भी कर चुके हैं,  जब गांव में सरकारी एक इंच  जमीन ही नही बचेगा तो गोठान, घुरवा और बाडी कहां और कैसे  बनायेगें,

राज्य सरकार का मानना है कि इस योजना के माध्यम से भूजल रिचार्ज, सिंचाई और आर्गेनिक खेती में मदद, किसान को दोहरी फसल लेने में आसानी, पशुओं को उचित देखभाल सुनिश्चित हो सकेगी, परंपरागत किचन गार्डन एवं ग्रामीण अर्थव्यवस्था में मजबूती आएगी तथा पोषण स्तर में सुधार आएगा। सरकार ने जिस सोंच के तहत योजना बनाई है उसकी देश में नहीं बल्की पूरी दुनिया में इसकी चर्चा है और हो भी क्यों नहीं ? इतिहास में पहली दफा किसी सरकार ने ग्रामीण भारत की दैनिक दिनचर्या को रोजगार और हाईटेक बनाने के लिए प्रयासरत हैं,

Breaking -   बीरगांव - उरकुरा के नशेडियों और जुआरियों ने मंदिर को बना लिया अडडा - पूजा के लिए महिलाओं का मंदिर जाना हुवा बंद...!!

येे 🖕 घुुुुुरवा है जिसे गांव से लगकर कई स्थानों पर बनाया जाता है  ताकि घर घर का कचरा लोग अपनेे नजदीकी घुरुवा में डाल सकेे… बाद में उसका उपयोग उरर्वक खाद के रूप में किया जाता है  !!

ये बाडी है 🖕 जहां पर लोग सब्जी उगाते है तथा गाय बछड़े के लिए चारा खाद्य वनस्पति पैदा करते हैं  !!

आपको बता दें कि जिला के जितने भी गोठान निर्माण की कार्य हुआ है या फिर हो रहा है; उन सभी गोठान पर राज्य सरकार  वृहद धनराशि खर्च कर रही है क्योंकि छत्तीसगढ़ सरकार की यह  बहुत ही महत्वपूर्ण योजना है  !!

Breaking -   छत्तीसगढ़ मे संविदा शिक्षक बनने का सुनहरा अवसर, इतने पदों पर निकली भर्ती, 21 जुलाई तक कर सकेंगे आवेदन

अब सवाल यह उठता है कि राज्य सरकार ने गांव और शहर के सभी सरकारी जमीनों को बेच रही है, गांव गांव में सभी भाठा जमीनों को लोग खरीद लेंगे ,  वैसे भी गांवो में – गांव से लगा मैदान या भाठा जमीन पहले ही कब्जा हो चुका है,  थोडा बहुत कहीं बचा होगा उसे सरकार बेच रही है,  जब गांव में सरकारी जमीन बिलकुल ही नही बचेगा तो गोठान, घुरवा और बाडी कहां और कैसे  बनायेगें,  अभी से सरकार की यह सबसे अहम और  बडी महत्वपूर्ण  योजना पूरी तरह दम तोड़ती नजर आ रही है जिसमें स्वयं सरकार का गलत निर्णय शामिल है  !!

सिटी न्यूज रायपुर …

Share on :