• 06 AUGUST 2020
  • City news 
  • Lockdown in Chhattisgarh 

Whatsapp button

रायपुर। छत्तीसगढ के विभिन्न शहरों और ग्रामीण इलाकों में कोरोनावायरस संक्रमण के चलते 6 अगस्त तक लॉकडाउन घोषित किया गया था। इससे पहले सरकार ने एक सप्ताह के लॉकडाउन को आगे बढाते हुए इसे आज के दिन तक के लिए लागू किया था। राज्य में बढते काेरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए सरकार को यह फैसला लेना पडा। 

लॉकडाउन के लिए केंद्र के दिशानिर्देश के अनुसार अब राज्य सरकार ने कलेक्टरों को जिला स्तर पर लॉकडाउन का निर्णय लेने का अधिकार दिया है। आज दोपहर 12 बजे राजधानी रायपुर में कलेक्टर ने बैठक बुलाई है, जिसमें लॉकडाउन को लेकर आगे का निर्णय लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें – Gold-Silver Price : सोने की कीमत में 1200 रु की बढ़त वहीँ चांदी में 5300 रु बढ़े ; देखिये आज का रेट

बता दें कि राज्य में संक्रमण का अभी भी तेजी के साथ प्रसार हो रहा है और यहां अब 10497 लोग कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं। रोजाना बडी संख्या में नए मरीज सामने आ रहे हैं। प्रशासन को इस हालात को देखते हुए लाॅकडाउन पर गंभीरता से फैसला लेने की ज़रूरत है।

वहीं दूसरी तरफ लॉकडाउन की वजह से व्यापार का बडा नुकसान भी हो रहा है। छोटे व्यापारी और दुकानदार अब हालात से परेशान हो उठे हैं। पूरे राज्य में व्यापारी प्रशासन से नियमित रूप से व्यापार व्यवसाय चालू करने की अनुमति मांग रहे हैं।

व्यापारिक संगठन कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स एसोसिएशन (कैट) का कहना है कि सात अगस्त से सभी दुकानें खुलनी चाहिए। लॉकडाउन ने व्यापार उद्योग जगत को पूरी तरह से नुकसान पहुंचा दिया है। इस संबंध में कैट ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को ज्ञापन भी सौंपा। मंगलवार को कैट से जुड़े विभिन्न व्यावसायिक संगठनों की बैठक हुई थी और सभी व्यापारियों ने एकमत होकर लॉकडाउन का विरोध किया।

यह भी पढ़ें – Corona news : बिना लक्षण वाले मरीजों के लिए 4000 बेड का हुआ इंतज़ाम जिसके लिए 7 संस्थानों का चयन किया गया

कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी ने कहा कि सीएम को सौंपे ज्ञापन में कहा गया है कि लॉकडाउन से व्यापार जगत को नुकसान पहुंचा है। आने वाले दिनों में कोरोना को रोकने जो भी नियम बनाए जाएंगे व्यापारी वर्ग उनका पालन करेंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश भर में सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक व्यापार की अनुमति दी जाए।

साथ ही शनिवार शाम 4 बजे के बाद सोमवार सुबह तक पूरी तरह से लॉकडाउन लगाया जाए। इससे कोरोना संक्रमण को रोकने में भी मदद मिलेगी और व्यापारिक गतिविधियां भी चलती रहेंगी। थोक पंडरी कपड़ा व्यापारी संघ के अध्यक्ष चंदर विधानी का कहना है कि अब लॉकडाउन नहीं लगना चाहिए। कपड़ा व्यापारी भी पूरी तरह से नियमों का पालन करते हुए दुकानें खोलेंगे। उन्हें सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक का समय दिया जाए।

यह भी पढ़ें – नहीं मिलेगा मेडिकल कॉलेज में जनरल प्रमोशन ; जल्द से जल्द परीक्षा कराने के निर्देश जारी

बिलासपुर में व्यापारियों के संगठन संभागीय चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष रामअवतार अग्रवाल ने कहा कि व्यापारिक हित को देखते हुए प्रशासन को सीमित समय के लिए सभी तरह के व्यवसाय की छूट देनी चाहिए। कोरबा में भी आज कलेक्टर लॉकडाउन बढाने का फैसला लेंगे। यहां अभी सुबह 6 से 10 बजे तक व्यापार व्यवसाय की अनुमति है, जबकि व्यापारियों का कहना है कि दोपहर 3 बजे तक व्यवसाय की अनुमति मिलनी चाहिए।

अम्बिकापुर में भी लॉकडाउन को आज रात 12 बजे से सिथील कर दिया जाएगा। शहर के कंटेनमेंट जोन बंद रहेेंगे। आज शाम 4 बजे शहर में एसडीएम और निगम आयुक्त ने व्यापारियों और आम नागरिकों की एक बैठक बुलाई है, जिसमें नियमों को सिथील किए जाने की शर्तों पर चर्चा होगी। थाेक किराना व्यवसायी रूपेश बंसल ने कहा कि व्यवसाय बंद होनेे की वजह से व्यापारियों की स्थिति खराब हुई है। दुकानें खुलने से व्यापारियों की आर्थिक स्थिति वापस पटरी पर आएगी, लेकिन संक्रमण के हालात को भी ध्यान में रखना जरूरी है।

Whatsapp button

Youtube button

यह भी पढ़ें – Lockdown Breaking : 7 अगस्त से पटरी पर लौट सकता है शहर, लॉकडाउन खत्म करने की तैयारी में प्रशासन, बाजार की अधिकांश दुकानों को मिलेगी छूट…!!