छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में सभी धार्मिक स्थल 2 महीने 15 दिन बाद सोमवार से शर्तों और समय की पाबंदी के साथ आम श्रद्धालुओं के लिए खुलने जा रहे हैं। प्रसाद बांटने और चढ़ाने पर पाबंदी रहेगी। मठ मंदिरों में समय कम कर दिया गया है।

08 june 2020

City News – CN

रायपुर | पूरे देश में कोरोना की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से 23 मार्च से आस्था केंद्रों के पट भक्तों के लिए बंद कर दिए गए थे। इस दौरान मंदिरों में सिर्फ पुजारी ही पूजा आरती करते रहे। मस्जिदों में नमाजे फर्ज अदा की गई। गुरुद्वारों में ग्रंथी प्रकाश किए और गिरजाघर में पादरी प्रार्थना की रस्में पूरी किए। अब यह सभी धार्मिक स्थल 2 महीने 15 दिन बाद सोमवार से शर्तों और समय की पाबंदी के साथ आम श्रद्धालुओं के लिए खुल गए हैं।

प्रसाद बांटने और चढ़ाने पर पाबंदी रहेगी। मठ मंदिरों में समय कम कर दिया गया है। रविवार को सभी धार्मिक प्रबंधक कमेटिययां दिनभर तैयारियों में जुटी रहीं, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जा सके।

मठ-मंदिर कमेटियों ने सुबह और शाम के समय पूजा-अर्चना करने का समय निर्धारित कर दिया है। शहर के जैतूसाव मठ, महामाया मंदिर, काली माता मंदिर, बुढ़ेश्वर महादेव, नरहेश्वर महादेव, बंजारीधाम मंदिर, वीआईपी रोड स्थित श्रीराम मंदिर के प्रवेश द्वार पर सैनिटाइज मशीन लगा दी गई है।

दर्शन करने के लिए एक से डेढ़ मीटर के फासले पर मार्किंग की गई है। मठ सुबह 7:30 से 10:30 बजे तक और शाम के समय 4:30 से 7:30 बजे तक श्रद्धालुओं के लिए खुलेगा। इन दोनों समय की आरती में श्रद्धालु शामिल नहीं हो सकेंगे। प्रसाद बांटने और चढ़ाने पर पाबंदी रहेगी। दान पेटी में ही दक्षिणा दे सकेंगे।

आरती के बाद खुलेगा महामाया मंदिर
मंदिर कमेटी ने आरती के बाद सुबह 8:00 से 11:00 और शाम को 4:30 से 7:00 तक ही श्रद्धालुओं को पूजा-अर्चना करने के लिए समय तय किया है। पंडित मनोज शुक्ला के अनुसार मंदिर के परिसर के गेट पर सेंसर सैनिटाइजर मशीन से होकर श्रद्धालु प्रवेश करेंगे। तीन बार परिसर की सफाई कराई जाएगी।

सोशल डिस्टेंसिंग के साथ होगी अरदास
छत्तीसगढ़ सिख फोरम के अध्यक्ष बलदेव सिंह भाटिया ने बताया कि शहर में 22 गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटियां हैं, सभी सोशल डिस्टेंसिंग के साथ अरदास की व्यवस्था बनाएंगी। गुरुद्वारों में मास्क और सैनिटाइजर की व्यवस्था की गई है। लंगर आयोजित नहीं किए जाएंगे।

प्रार्थना सभा की व्यवस्था बनाई जा रही
सेंट पॉल चर्च के पादरी अजय मार्टिन ने बताया कि कोरोना लॉकडाउन के बाद ऑनलाइन प्रार्थना की व्यवस्था की गई थी, उसी तरह अभी सभी विश्वासीजन प्रार्थना में शामिल होते हैं। गिरजाघर में शासन-प्रशासन के नियमों का पालन करते हुए सामूहिक प्रार्थना सभा की व्यवस्था बनाई जाएगी।

जुमा के दिन दो जमात होगी नमाज
शहर काजी मोहम्मद अली फारुकी ने बताया कि शहर में 60 मस्जिदें और मदरसे हैं। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की सबसे अधिक जरूरत है। हर शुक्रवार यानी जुमा के दिन दो जमात में नमाज पढ़ने की व्यवस्था रहेगी। सैनिटाइजर, थर्मल स्क्रीनिंग, मास्क के साथ ही हर वक्त की नमाज के बाद मस्जिद कमेटियां सफाई कराएंगी।

जिनालय में पुजारी ही अभिषेक कर सकेंगे
सीमंधर स्वामी जैन मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष संतोष बैद ने बताया कि शहर में श्वेतांबर परंपरा के 10 जिनालय और 6 दिगंबर जैन मंदिर हैं। जिनालयों में पुजारी ही सुबह शाम अभिषेक पूजन करेंगे। मंदिर के प्रवेश द्वार पर सैनिटाइजर, थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था रखीं गयी हैं ।

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए  – 

हमारे   FACEBOOK  पेज को   LIKE   करें

सिटी न्यूज़ के   Whatsapp   ग्रुप से जुड़ें

हमारे  YOUTUBE  चैनल को  subscribe  करें

Source link